Tere Bin Shayari girlfriend Awesome2017

##अगर होता है इत्तेफाक तो यूँ क्यों नहीं होता, तुम रास्ता भूलो और मुझ तक चले आओ##

##सौ दुश्मन बनाए हमने, किसी ने कुछ नहीं कहा.. एक को हमसफर क्या बनाया.. सौ ऊँगली उठ गई##

"###जरुरी नही की कुछ तोड़ने के लिए पत्थर ही उठाओ.. लिहाज बदल कर बोलने से भी दिल टूट जाया करते है##

###आज तुम हर साँस के साथ याद आ रहे हो.. अब तुम ही बताओ तेरी याद रोक दूँ या अपनी साँस..!!!


###इतने बुरे भी ना थे जो ठुकरा दिया तुमने हमे, तेरे अपने फैसले पर एक दिन तुझे भी अफ़सोस होगा...!!

##मत पूछ कैसे गुजरता है हर एक पल तेरे बिन, कभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना..!!

##रिश्ते तोड़ देना, हमारी फितरत में नहीं है###हम तो बदनाम ही, रिश्ते निभा ने के लिए है..

##ये जो खामोश से अल्फ़ाज़ लिखे है ना###ए सनम###पड़ना कभी इसे ध्यान से.. ये "चीखते" बड़े कमाल के है..

###एक बार चले आओ मेरे दिल में अपनी मोहब्बत देखने, फिर जाने का इरादा हम तुम पर छोड़ देंगे...!!!

###रुठा अगर मैं तुझसे तो इस कदर रुठूंगा, की तेरे शहर की मिट्टी भी मेरे वजूद को तरसेगी...?!!

##किसी की मासूम हँसी के पीछे दर्द को महसूस तो कर, सुना है अकसर लोग हँस हँस के खुद को सजा देते है###

No comments :