Sms-I Love You Shayari 2017

↹Aasman se bada , aprvat se uncha, samundar se gahra hai pyaar mera, na aaye yakin to chir ke dekho, dil ko likha hai jisme sirf naam tera↺

↹Apna samjh kar tumhe chahte rahe, bhram se khudh ko bahlate rahein, na miloge tum phir bhi manta nahi man,mannat tumhe paane ki mangte rahein⇑

↹Aankho ke samne hardum aapko paya hain, dil mein bhi aapko hi basaya hain, aap ke bin hum jiyenge kaise, bhala jaan bina bhi koi jee paya hain

↹auron ko dikhane ke liye hasta hoon mein, gam ko bhulane ke liye hasta hoon mein, mere hasne ki hakikat ko kya samjhogi, khud ko bhulane ke liye hasta hoon mein.

↹aankhon ki zubaan samjh nahi paate, hoth magar kuch kah nahi paate, apni bebasi kis tarah kahein, koi he jiske bina hum jee nahi paate.

Aankh to pyaar mein dil ki zubaan hoti hain, sacchi chahat to sada bezubaan hoti hain, pyaar me dard bhi mile to kya ghabrana, suna hai dard se chahat jawan hoti hain.

↹Ab kya kahoon tumse, agar kuch kahna hai to, sirf itna ki maine pyaar kiya, an nahi raha jata, kahdo naa pyaar hain


↺Aap kar manzil ko mushkil samjhte hain, hum appko manzil samjhte hain, bada furk hain aapke aur hamare nazariye mein, aap hame sapna aur hum aapko apna samjhte hain. Badi garaz se chaha hain tujhe, badi duaon se paya hain tujhe, tujhe bhulane ki sochu bhi to kaise, kismat ki lakiron se churaya hain tujhe.

↹​Badi aasani se dil lagaye jate hain, par badi mushkil se vaade nibhaye jate hain, le jaati hain mohabbat un raaho pe, jahan diya nahi dil jalaye jate hain.

↰​Dil ki hasrat zuban par aane lagi, tumko dekha aur zindagi muskurane lagi, yeh dosti ki inteha thi, yaa meri deewangi, har surat main surat teri nazar aane lagi.

​↺Duaon ki bhid me ek dua hamari hogi, jisme mangi hamne har khushi tumhari hogi, jab bhi koi dastak sunai de dil pe, samjho dua kabul hui hamari hogi.

↹Hamse door jaoge kaise, dil se hame bhulaoge kaise, hum wo khushbu hain jo sanso mein naste hain, khud ki saanso ko rok paoge kaise.
​Hindi version of i love you shayari
​आसमान से बड़ा , पर्वत से उँचा, समुंदर से गहरा है प्यार मेरा, ना आए यकीन तो चिर के देखो, दिल को लिखा है जिसमे सिर्फ़ नाम तेरा.

⇎अपना समझ कर तुम्हे चाहते रहे, भ्रम से खुद को बहलाते रहें, ना मिलोगे तुम फिर भी मानता नही मन,मन्नत तुम्हे पाने की माँगते रहें⇏

⇍आँखो के सामने हर दम आपको पाया हैं, दिल में भी आपको ही बसाया हैं, आप के बिना हम जियेंगे कैसे, भला जान बिना भी कोई जी पाया हैं

⇍औरों को दिखाने के लिए हस्ता हूँ में, गम को भूलने के लिए हस्ता हूँ में, मेरे हसने की हक़ीकत को क्या समझोगी, खुद को भूलने के लिए हस्ता हूँ में.

↮आँखों की ज़ुबान समझ नही पाते, होठ मगर कुछ कह नही पाते, अपनी बेबसी किस तरह कहें, कोई हे जिसके बिना हम जी नही पाते.


↹आँख तो प्यार में दिल की ज़ुबान होती हैं, सच्ची चाहत तो सदा बेज़ुबान होती हैं, प्यार मे दर्द भी मिले तो क्या घबराना, सुना है दर्द से चाहत जवान होती हैं↹

↹अब क्या कहूँ तुमसे, अगर कुछ कहना है तो, सिर्फ़ इतना की मैने प्यार किया, अब नही रहा जाता, कह दो ना प्यार हैं

↹आप हर मंज़िल को मुश्किल समझते हैं, हम आपको मंज़िल समझते हैं, बड़ा फरक हैं आपके और हमारे नज़रिए में, आप हमे सपना और हम आपको अपना समझते हैं.

⇎बड़ी गरज से चाहा हैं तुझे, बड़ी दुआओं से पाया हैं तुझे, तुझे भूलने की सोचु भी तो कैसे, किस्मत की लकीरों से चुराया हैं तुझे⇏

​⇎बड़ी आसानी से दिल लगाए जाते हैं, पर बड़ी मुश्किल से वादे निभाए जाते हैं, ले जाती हैं मोहब्बत उन राहो पे, जहाँ दिया नही दिल जलाए जाते हैं.

⇚​दिल की हसरत ज़ुबान पर आने लगी, तुमको देखा और ज़िंदगी मुस्कुराने लगी, यह दोस्ती की इंतेहा थी, या मेरी दीवानगी, हर सूरत मैं सूरत तेरी नज़र आने लगी.

​⇚दुआओं की भीड़ मे एक दुआ हमारी होगी, जिसमे माँगी हमने हर खुशी तुम्हारी होगी, जब भी कोई दस्तक सुनाई दे दिल पे, समझो दुआ काबुल हुई हमारी होगी.

⇔हमसे दूर जाओगे कैसे, दिल से हमे भुलाओगे कैसे, हम वो खुश्बू हैं जो सांसो में बसते हैं, खुद की सांसो को रोक पाओगे कैसे⇛

"""तुझे देखु तो सारा जहाँ रंगीन नज़र आता है, तेरे बिना दिल को चेन किसको आता है! तुम ही हो मेरे दिल की धड़कन, तेरा बिना यह संसार आवारा नज़र आता है!

""" शिकवा करने गए थे और इबादत सी हो गई.. तुझे भुलाने की जिद थी मगर तेरी आदत सी हो गई..!!!

""" उनको गुस्सा आता है गुस्सा हमे भी आता है, उनको सच पे आता है हमे झूठ पे आता है...!!!

""" उसे तेरी इबादतों पे यकीन ही नही है दोस्त, जिस की खुशियाँ तू रब से रो-रो के मांगता है..!!!

""" गलती हो गई हमसे जो तुम्हे खुद से ज्यादा प्यार करने लगे, ख़ास पता होता हमे की मेरी परवाह तुम्हे लापरवाह बना देगी...,

##दोस्त प्यार से भी बडा होता है हर सुख और दुख में साथ होता है तभी तो कृष्ण राधा के लिए नही सुदामा के लिए रोता है

##मेरे जीने के लिये तेरा अरमान ही काफी है, दिल के क़लम से लिखी ये दास्तान ही काफी है, तीर-ए-तलवार की तुझे क्या ज़रूरते ए नज़नीन, क़त्ल करने के लिय तेरी मुस्कान है काफी है."

##ज़िन्दगी में प्यार का पौधा लगाने से पहले जमीन परख लेना,, हर एक मिट्टी की फितरत में वफा नही होती !!!"

##दान करना ही हैं तो भूखे को रोटी दान कर ऐ इंसान...... यूं कब तक दान पात्रों में पैसा डालकर ट्रस्टों को करोड़पति बनाता रहेगा......



##दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है, और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता..

##बार बार रफू करता रहता हूँ जिन्दगी की जेब... कम्बख्त फिर भी निकल जाते है खुशियो के कुछ लम्हेँ...!!!

##एक मौका मिलता था हमे रोने का, मगर बारिश ने हम से वो भी छिन लिया......

##बिन देखे तेरी तस्‍वीर बना सकते हैं बिन मिले तेरा हाल बना सकते है हमारे प्‍यार में इतना दम है की तेरे आसूं अपनी ऑख से गिर सकते हैं

###कभी कभी झूट भी कहता हु मुझे खुदा को खुश करना नहीं आता.. पर हाँ.. मैंने माँ को कभी नाराज़ नहीं किया...

No comments :