love shayari in Hindi Awesome2017

कभी अल्फ़ाज़ भूल जाउ कभी ख़याल भूल जाउ
तुझे इस कदर चाहू के अपनी साँस भूल जाउ
उठ कर तेरे पास से जो मैं चल दू
तो जाते हुए खुद को तेरे पास भूल जाउ

अब उनकी मोहब्बत में ये आलम आ गया,
ठंडी हवा का झोंका भी हमे जला गया,
कहता है आप यहा तरसते ही रह गये,
मैं तुम्हारे सनम को छु कर आ गया


साथ अगर दोगे तो मुस्कराएँगे ज़रूर,
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएँगे ज़रूर
राह मे कितने भी काँटे क्यू ना हो,
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएँगे ज़रूर.



मेरी कलाम से लफ्ज़ खो गये शायद,
आज वो भी बेवफा हो गये शायद,
जब नींद खुली तो पलकों मे पानी था,
मेरे ख्वाब मुझ पे ही रो गये शायद


मुझे भी अब नींद की तलब नहीं रही,
अब रातों को जागना अच्छा लगता हैं,
मुझे न्ही मालूम वो मेरी किस्मत मे हैं की नही
मगर उसे खुदा से माँगना अच्छा ल्गता है.


हर शख्स से उलफत का इक़रार नही होता,
हर चेहरे से दिल को कभी प्यार नही होता
जो रूह को छ्छू जाए, जो दिल मे उतार जाए
उसी से इश्क़ का लफ़्ज़ों में इज़हार नही होता..



सासे थम सी जाती हैं पर जान नही जाती,
दर्द होता हैं पर आवाज़ नहीं आती,
अजीब से लोग हैं इस दुनिया में,
कोई भूल नही पता तो किसी को याद नही आती


क़ातिल तेरी अदाओं ने लूटा हैं,
मुझे तेरी जफ़ाओं ने लूटा हैं,
शौक नही था मुझे मर मिटने का
साकी नशीली निगाहों ने लूटा हैं,
बिखरी हैं खुश्बू तेरी साँसों की,
मुझ को तो इन हवाओं ने लूटा है,
चैन से भला कैसे सो सकता हूँ,
रातों को तेरे खवाबों ने लूटा है
बहुत खूब हैं तेरे हुस्न की आडया,
चाँदनी को तूने चंदा से लूटा है.


वो इनकार करते हैं इकरार के लिए,
नफ़रत भी करते हैं तो प्यार के लिए,
उल्टी चाल चलते है ये इश्क़ करने वाले
आँखें बंद करते हैं दीदार के लिए




खुदा बिना जाने केसे रिश्ते बना देता हैं
अंजाने लोगो को दिल में बसा देता हैं,
जिन्हे हम कभी जानते भी ना थे,
उन्हे जान से भी ज़्यादा कीमती बना देता है


सब भूल जाता हू आपके सिवा, ये क्या मुझे हुआ हैं
क्या इसी एहसास को दुनिया ने प्यार का नाम दिया हैं.



आपको जो देखा ह्मने, मानो ज़िंदगी मिल गयी है
आपका प्यार पाया हमने, मानो जन्नत मिल गयी है..



 अच्छे निशाने बाज़ हो तुम ठीक निशाने पे तूने तीर मारा
दुनिया से ही बाजी जीतने वाला, आज तुमसे अपना दिल हरा.



वो 'मिली भी तो सिर्फ़ खुदा के दरबार में,
अब तुम ही बताओ यारों हम 'इबादत करते या मोहब्बत'.



 मौसम की खुशगवारी का एक ही इशारा है,
यादें हैं जिसकी वो यार हमारा हैं….


मेरी मोहब्बत है वो, कोई मजबूरी तो नही,
वो मुझे चाहे, या मिल जाए, ज़रूरी तो नही.
ये क्या कम है की बसा है वो मेरी साँसों मे
वो सामने हो मेरी आँखों के ज़रूरी तो नही.

दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया,
लोगो ने हमसे पूछा आज तुम्हे क्या हो गया
हम बेकरार आँखो से सिर्फ़ हस पाए
ये भी ना कह पाए की हमे प्यार हो गया.


हमारी रूह मे ना समाए होते तो भूल जाते तुम्हे
इतना करीब ना आए होते तो भूल जाते तुम्हे.,
ये कहते हुए की मेरा ताल्लुक नहीं तुमसे कोई,
आँखों में आँसू ना आए होते तो भूल जाते तुम्हे.


अपने सिवा बताओ कभी कुच्छ मिला भी है तुम्हें,
हज़ार बार ली हैं तुमने मेरे दिल की तलाशियाँ


एक ख्वाइश सिरहाने रख दो,
आज मुझ पे इनायत कर दो,
ज़रा चुपके से खामोशी से,
तुम इज़हार-ए-मोहब्बत कर दो
खुद को कर के दीवाना सा,
मेरा प्यार अमर तुम कर दो,
मैं प्यास मे डूबा सेहरा हूँ,
तुम मुझ को समंदर कर दो,
मैं यू ही फिरता हूँ दर-बा-दर
तुम खुद को मेरी मंज़िल कर दो.


कब तक वो मेरा होने से इनकार करेगी,
टूट के वो खुद एक दिन मुझसे प्यार करेगी
जला दूँगा इतना मैं उसे इश्क़ की आग में
की इज़हार वो मुझसे सरे बाज़ार करेगी.



तरस गये आप के दीदार को,
फिर भी दिल आप ही को याद करता हैं,
हमसे खुशनसीब तो आपका घर का आईना हैं
जो हर रोज़ आपके हुस्न का दीदार करता है



किताबों के पन्नों को पलट के सोचता हूँ,
यूँ पलट जाए मेरी ज़िंदगी तो क्या बात है.
ख्वाबों में जो रोज़-रोज़ मिलती है,
हक़ीकत मे मिल जाए, तो क्या बात है,
मतलब के लिए तो सब ढूनडते हैं मुझको
बिन मतलब के जो पास आए कोई तो क्या बात है
क़त्ल करके तो सब ले जाएँगे दिल मेरा,
कोई बातों से ले जाए तो क्या बात है.
ज़िंदा रहने तक खुशी दूँगा सबको,
किसी को मेरी मौत से खुशी मिल जाए तो क्या बात है



अज़ीज़ भी वो है ओर नसीब भी वो है,
दुनिया की भीड़ मैं करीब भी वो है,
उनकी दुआव से चलती है ज़िंदगी क्योंकि,
खुदा भी वो है और तक़दीर भी वो है


खुश्बू की तरह मेरी हर सांस मैं,
प्यार अपना बसने का वादा करो.
रंग जीतने तुम्हारी मोहबत के हैं,
मेरे दिल मे सजाने का वादा करो…


खुसबू तेरी मुझे महका जाती हैं
तेरी हर बात मुझे बहका जाती हैं,
सांस को बहुत देर लगती है आने में
हर सांस से पहले तेरी याद आ जाती है !!!


मुझे तुम से मुहब्बत हो गई है
यह दुनिया खूबसूरत हो गई है.
खुदा से रोज़, तुम्हें माँगता हूँ
मेरी चाहत, मेरी इबादत हो गई है.



सवाल कुछ भी हो जवाब तुम ही हो
रास्ता कोई भी हो मंज़िल तुम ही हो
दुख कोई भी हो खुशी तुम ही हो
गुस्सा कितना भी हो प्यार तुम ही हो
क्यू की तुम ही हो अब तुम ही हो…



बनाने वाले ने भी तुझे,
किसी कारण से बनाया होगा,
छोड़ा होगा जब ज़मीन पर तुझे,
उसके सीने में भी दर्द तो आया होगा…

अपना तो चाहतों में यही उसूल हैं,
जब तू क़ुबूल है, तो तेरा सूब कुछ क़ुबूल है…♥

आप खुद नी जानती आप कितनी प्यारी हो
जान तो हमारी पर जान से प्यारी हो
दूरियों क होने से कोई फ़र्क न्ही पड़ता
आप कल भी हमारी थी आज भी हमारी हो…!!


♥ इस बात का एहसास किसी पर ना होने देना ♥
♥ के तेरी चाहतों से चलती है मेरी साँसें ♥


बस एक छोटी सी हाँ कर दो
हमारे नाम इस तरहा सारा जहा कर दो!
वो मोहब्बत जो तुम्हारे दिल में हैं
उन को ज़ुबान पर लाओ और बयान कर दो!
आज बस आप कहो और कहती ही जाओ
हम बस सुने ऐसा बे-ज़ुबान कर दो!
होई पुरानी दास्तान हीर रांझा की
तारीख मोहब्बत की फिर से जवान कर दो,
आ-जाओ की ऐसा टूट कर चाहे तुम्हे
हमारी मोहबत को मोहब्बत का निशान कर दो!
अपने दिल मे इस तरहा छुपा लो मुझको
राहु हुमेशा इस मे ऐसा मेरा मकान कर दो…!!



प्यार और मौत से डरता कौन है…
प्यार तो हो जाता हे इसे करता कौन है…..!!

♥ हम तो कर दे प्यार मे जान भी
क़ुरबान…
पर पता तो चले हमसे प्यार करता कौन
है…….!!



♥ तेरे चेहरे मे
मेरा नूर होगा ♥
♥ फिर तू ना कभी
मुज़से दूर होगा ♥
♥ सोच क्या
खुशी मिलेगी
जान उस पल ♥
♥ जिस पल
तेरी माँग मे
मेरे नाम का सिंदूर होगा ♥



♥♥ कैसे कहूँ के अपना बना लो मुझे,
बाहों में अपनी समा लो मुझे,
बिन तुम्हारे एक पल भी कटता नही,
तुम आ कर मुझी से चुरा लो मुझे,
ज़िंदगी तो वो है संग तुम्हारे जो गुज़री,
दुनिया के गमों से अब चुरा लो मुझे,
मेरी सबसे गहरी ख्वाहिश हो पूरी,
तुम अगर पास अपने बुला लो मुझे,
ये कैसा नशा है जो बहका रहा है,
तुम्हारा हूँ मैं तो संभलो मुझे,
 ना जाने फिर कैसे गुज़रेगी ज़िंदगानी,
अगर अपने दिलसे कभी तुम निकालो मुझे♥♥


एक शब्द है मोहब्बत-
इसे कर के देखो तुम तड़प ना जाओ तो कहना….
एक शब्द इहाई मुक़द्दर-
इससे लड़कर देखो तुम हार ना जाओ तो कहना….
एक शब्द है वफ़ा-
ज़माने मे नही मिलती,कहीं ढूंड पाओ तो कहना….
एक शब्द है आँसू-
दिल मे छुप का रखो,तुम्हारी आँख से ना निकले तो कहना….
एक शब्द है जुदाई-
इसे से कर के तो देखो, तुम टूट कर बिखर ना जाओ तो कहना….
एक शब्द है भगवान-
उसे पुकार कर तो देखो,सब कुच्छ ना पा लो तो कहना….



इश्क़ ने हमे बेनाम कर दिया,
हर खुशी से हमे अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नही चाहा के हमे भी मोहब्बत हो,
लेकिन आप की एक नज़र ने हमे नीलाम कर दिया…



नज़ारे मिले तो प्यार हो जाता है,
पलके उठे तो इज़हार हो जाता है,
ना जाने क्या कासिष है चाहत मैं,
के कोई अंजान भी हमारी
ज़िंदगी का हक़दार हो जाता है.


ज़िंदगी तस्वीर भी ओर तक़दीर भी हैं ♥
फरक तो बस रंगो का हैं
मनचाहे रंगो से बने तो तस्वीर
ओर अंजाने रंगो से बने तो तक़दीर ♥ ♥



आज दिल की बात कहने को दिल करता है
तेरे दिल मे रहने को दिल करता है
ख़ुसी दे के तेरे गम सहने को दिल करता है
भगवान जाने ह्मारा क्या रिश्ता है
तुम्हे बस अपना कहने को दिल करता है


ज़िंदगी का पहला प्यार कोन भूलता हैं,
ये पहली बार होता ह ज्ब कोई किसी को खुद से बढ़कर चाहता ह…

उसकी पसंद, उसकी ख्वाहिश मे खुद को भूल जाता ह,
अकेले में उसका नाम लिख लिख कर मिटाता ह…

बात करने से पहले सोचता ह, क्या कहना ह.,
बात होने के बाद फिर कुछ कहना रह जाता ह..

होता ह इतना खूबसूरत पहला प्यार,
तो जाने क्यूँ अक्सर अधूरा रह जाता ह…

तेरे हर गुम को अपनी रूह मे उतार लूँ
ज़िंदगी अपनी तेरी चाहत मे सवार लूँ
मुलाक़ात हो तुझसे कुछ इस तरह मेरी,
सारी उम्र बस एक मुलाक़ात मे गुज़ार लूँ


कों कहता है मोहबत की ज़ुबान होती है
होंटो क बिना खुले ही हक़ीकत बया होती ह
इश्क़ वो खुदाई हैं मेरे दोस्त……
जो लफ़जो से नही आँखो से बया होती है

किसी को टूट कर चाहने से कोई मोहब्बत नही होती…
उसे पाने की ख्वाहिश रखने से मोहब्बत नही होती
मोहब्बत तो एस दुनिया की वो अज़ीम चीज़ हैं….
जो किसी से एक बार हो जाए तो फिर किसी से नही होती


कैसे कहूँ के अपना बना लो मुझे
निगाहों में अपनी समा लो मुझे,
आज हिम्मत कर के कहता हूँ की मैं
तुम्हरा हू अब तुम ही संभलो मुझे


खाए है लाखो धोखे,
एक धोखा और सह लेंगे.
तू लेजा अपनी डोली को,
हम अपनी अर्थी को बारात कह लेंगे..


मैं ये न्ही कहता की कोई त्म्हरे लिए दुआ ना माँगे.......
मैं ब्स इतना चाहता हूँ की कोई दुआ मैं तुम्हे ना माँगे.
लोग मोहब्बत को खुदा कहते हैं
अगर कोई करे तो उसे इल्ज़ाम देते हैं
कहते हैं की पत्थर दिल रोया न्ही करते,
फिर क्यू पहाड़ो से झरने गिरा करते हैं


वो ज़िंदगी ही क्या जिसमे मोहाबत न्ही,
वो मोहाबत ही क्या जिसमे यादें न्ही,
वो यादें क्या जिसमे तुम न्ही, और वो तुम ही क्या जिसके साथ हम न्ही.


ना तंग करो, ह्म सताए हुए है,
मोहब्बत का गम दिल पे उठाए हुए है,
खिलोना समझ के हमसे ना खेलो,
हम भी उसी खुदा क बनाए हुए है.


जाती न्ही आँखो से सूरत आपकी,
जाती न्ही दिल से मुहब्बत आपकी.
महसूस ये होता है जीने क लिए पहले से ज़्यादा ज़रूरत है आपकी.


ना हमे आपसे सीकवा है, ना शिकायत है,
हमे तो बस आप ही से चाहत है,
कोई आ कर कह दे आपको मोहब्बत नही है हमसे,
हम तो यही कहेंगे आपको झूठ बोलने की आदत है.


🔝🔝ज़िंदगी मौहताज न्ही मंज़िलो की, वक़्त ही मंज़िल दिखा देता है, कौन मरता है किसी के लिए, वक़्त सब को जीनासीखा देता है🔝🔝🔝

🔝🔝बात ये न्ही की ह्म अपनी मौत से डरते है.हमरी मौत पर ना बह जये कही उनके 2 आँसू ह्म बस उनके उन 2 आसुओ की क़दर करते है🔝🔝


🔝🔝हसरत है उन्हे अपना ब्नाने की.ओर खावहिश न्ही कुछ पाने की. शिकायत मुझसे न्ही खुदा से करो.क्या जरूरत उन्हे इतना खूबसूरत ब्नाने की🔝🔝🔝


आप ह्मारे लिए एक फूल है जिसे तोड़ भी न्ही सकते ओर छोड़ भी न्ही सकते. क्यूकी तोड़ दिए तो मुरझा जाएगे ओर छोड़ दिए तो कोई ओर ले जाएगा...

मोहबत वो हसीन गुनाह है जिसे हर इंसान ख़ुसी ख़ुसी करता है. पर मोहोबत मैं इंतज़ार वो सज़ा है. जो सिर्फ़ वही करता है जो सच मैं मोहब्बत करता है

🔝🔝🔝आँसू आ जाते ह आँखो मैं पर
लाबो पे हसी लानी पड़ती हैं
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ हैं
यारो जिस से करते हैं उसी से छिपानि पड़ती हैं🔝🔝🔝🔝


🔝🔝आप पे ही ख़त्म सारी चाहत होगी. फिर ना किसी से ये इनायत होगी. कुछ इस कद्र करेंगे याद आपको. की ना ज़माने को खबर ना आपको शिकेयत होगी🔝🔝🔝🔝🔝

⧭⧭आज गम के बादल है क्ल खुशियो की बरसात होगी
आज मेरे साथ तेरी तन्हाई है क्ल तू भी मेरे साथ होगी🔝🔝🔝🔝


⧬⧬⧬आँखें खोलू तो चेहरा तुम्हारा हो आँखें बंद करू तो सपना त्म्हरा हो मुझे मरने का भी कोई गम न्ही अग्र कफ़न की जगह दुपट्टा त्म्हरा हो⧭⧭⧭⧭


⧪चाँद पर काली घटा छाती तो होगी,
सितारो को मुस्कुराहट आती तो होगी,
तुम लाख छिपाओ दुनिया से मगर,
अकेले में तुम्हे हमारी याद आती तो होगी⧬⧬⧬⧬
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
##Raat bhar is raat ko ek raat ke liye jagaya jaaye, isko maloom to ho hum par guzarti kya hain.


##zakhm kharid laya hu bazar e dard se, dil zid kar rha tha muze mohabbat chahiye...


##shart udaasi se laga beitha hu, muskurana meri majburi hain##


##mana ki uske kisse auro se bhi the lekin, wo baat bahut faili jo baat chali humse##


##ik ada aapki dil churane ki ik ada aapki dil mein bas jaane ki.... chehra aapka chaand sa aur ji hamari chaand paane ki...


##mene to dekha tha bas ek najar ke khatir, kya khabar thi ke rag rag mein sama jaoge tum###

No comments :