Cool Status in Hindi for WhatsApp 2017

⧭नमक की तरह हो गयी है जिंदगी, लोग स्वादानुसार इस्तेमाल कर लेते हैं

⧭कुछ लोग खुदको शेर समजते हैं…। मगर हम वो इन्सान है…। जो शेरो को भी कुत्ते जैसे घुमाते है..

⧭बदल गया है जमाना पहले माँ का पेर छू कर निकलते थे, अब मोबाइल की बेटरी फुल करके निकलते है.

⧭उनसे कहना की किस्मत पे इतना नाज़ ना करो.! हमने बारीश में भी,जलते हुए मकान देखे हैं.!

⧭Cool Whatsapp and Facebook Status in Hindi for Boys & Girls

⧭इसी बात से लगा लेना मेरी शोहरत का अन्दाजा.. वो मुझे सलाम करते है, जिन्हे तु सलाम करता हैं !

⧭हम मशहुर होने का दावा तो नही करते… मगर..जिसे भी आखँ भर कर देख लेते है उसे उलझन मे जरुर डाल देते है

⧭जिंदगीमें बडी शिद्दत से निभाओ अपना किरदार, कि परदा गिरने के बाद भी तालीयाँ बजती रहे…।

⧭ज़हासे तेरी बादशाही खत्म होंती हे, वहासे मेरी नवाबी सुरु होती हे

⧭Cool Status in Hindi Fonts and Language

⧭नफरतों को जलाओ… मुहब्बत की रौशनी होगी… इंसान तो जब भी जले… राख ही हुऐ ।।

⧭आपकी घड़ी कितनी भी कीमती हो, वक़्त तो ऊपर वाले के हिसाब से चलता है.

⧭तू पटाखा है किसी और का, तुझे फोड़ता कोई और है.

इन्कार है जिन्हे आज मुझसे मेरा वक्त देखकर,मै खूद को इतना काबील बनाउंगा वो मिलेंगे मूझसे वक्त लेकर!

सु⧭धरी हे तो बस मेरी आदते… वरना मेरे शौक.. वो तो आज भी तेरी औकात से ऊँचे हैं…!!!

हु⧭कुमत वो ही करता हे जिसका दिलो पर राज होता हे !!!! वरना यू तो गली के मुर्गो के सिरो पे भी ताज होता हे ……!!!
अगर जींदगी मे कुछ पाना हो तो तरीके बदलो, ईरादे नही.
.
Cool Status in Hindi for Girlfriend & Boyfriend

वो आईना देख मुस्कुरा के बोली… बेमौत मरेगा मुझ पर मरने वाला..

खरीद लेंगे सबकी सारी उदासियाँ दोस्तों ! सिक्के हमारे मिजाज़ के, चलेंगे जिस रोज !!

दिमाग कहता है मारा जायेगा लेकिन दिल कहता है देखा जाएगा

प्यार करता हु इसलिए फ़िक्र करता हूँ, नफरत करुगा तो जिक्र भी नही करुगा

Dekh Babe, नमक स्वाद अनुसार और अकड़ औकाद अनुसार ही अच्छी लगती है

More Cool Status in Hindi Fonts & Language on Next Page





हम जैसे सिरफिरे ही इतिहास रचते हैं !समझदार तो केवल इतिहास पढ़ते हैं !!

नाम इसलिए उँचा हैं..हमारा… क्योंकि……हम ‘बदला लेने की नही ,’बदलाव लाने, की सोच रखते हैं..

जीत हासिल करनी हो तो काबिलियत बढाओ । किस्मत की रोटी तो कुत्तों को भी नसीब हो जाती है

हमारे जीने का तरीका थोड़ा अलग है,हम उमीद पर नहीं अपनी जिद पर जीते है!!

आदत नई हमे पीठ पीछे वार करने की !!दो शब्द काम बोलते है पर सामने बोलते है !!

पाना है मुक्काम ओ मुक्काम अभी बाकी है अभी तो जमीन पै आये है असमान की उडान बाकी है !

अकड़ती जा रही हैं हर रोज गर्दन की नसें, आज तक नहीं आया हुनर सर झुकाने का ..

Attitude तो बचपन से है, जब पैदा हुआ तो डेढ़ साल मैंने किसीसे बात नही की ।

वो लाख तुझे पूजती होगी मगर तू खुश न हो ऐ खुदा.. वो मंदिर भी जाती है तो मेरी गली से गुजरने के लिए..!!

भीङ में खङा होना मकसद नहीं हैं मेरा ,बलकि भीङ जिसके लिए खडी है वो बनना है मुझे मोहब्बत है मेरी इसीलिए दूर है मुझसे, अगर जिद होती तो शाम तक बाहों में होती ।

वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं, जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते !!

तुम खुश-किश्मत हो जो हम तुमको चाहते है वरना, हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे भी लोग इजाजत लेकर आते है..!!

Mene bhi badal diye apne zindagi ke usul, Ab jo yaad karega woh yaad rahega..!!

सोने के जेवर ओर हमारे तेवर…लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे.

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर, शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

Chalo bikharne dete hai zindagi ko, Sambhaalne ki bhi to ek hadd hoti hai.

मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना..!

Tum kise or se ishq kar lo hame sudharne me tym lagega.

सपने हमेशा Exciting offers की तरह होते है, और हकीकत Conditions apply की तरह….!

धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल अभी तो पलकें झुकाई है मुस्कुराना अभी बाकी है उनका.

मुझे मालूम था के लौट के अकेले ही आना है , फिर भी तेरे साथ चार कदम चलना अच्छा लगा.

जाने कितनी रातो की नींदे ले गया वो.. जो पल भर मोहब्बत जताने आया था..

काश मैं लौट जाऊँ बचपन की उन गलियों में… जहां ना कोई ज़रूरत थी, ना कोई ज़रूरी था.

दो चीजो के बिना मैं रह नहीं सकता एक तेरा एहसास दूसरा तेरा मुझपे विश्वास

हमारे दो ‪‎शोख‬ बहुत पुराने हे एक ‪‎दोस्तों‬ के साथ ‪‎photoshoot‬ करना और… दूसरा हमसे जो ‪‎दुश्मनी‬ करे उसे ‪shoot‬ करना.

बहोत अंदर तक जला देती हैं, वो शिकायतें… जो कभी बयाँ नहीं होती…!! ‪

सुकून उतना ही देना प्रभू, जितने से जिंदगी चल जाये। औकात बस इतनी देना, कि औरों का भला हो जाये।
ये जो हमदर्दॅ होते है….. यकी मानो दोस्त ..दर्द उन्ही से मिलते है..!!

यु मत तड़पा online दिखा के अब block ही कर दिया है तो jaan भी ले लो

कौन कहेता है की तेरी ‪खुबसुरती‬ मै दम है? अरे ‪‎पगली‬ तुजे तो लोग इस लिए देखते है कि तेरे ‪‎आशिक़ हम है.

किताबों की तरह बहुत से अल्फाज़ है मुझमें , और किताबों की तरह ही खामोश रहता हूँ मैं


तबदीली जब भी आती है, मौसम की अदाओं मे, किसी का यूं बदल जाना, बहुत याद आता है…!!!

मुझे किसी के बदल जाने का गम नही है, बस कोई था जिससे ये उम्मीद नही थी..!!

तेरी सिर्फ एक निगाह ने खरीद लिया हमें…. बड़ा गुमान था हमें की हम बिकते नहीं…

निकल रहा था सुबह तक मेरे होठो से खून रात को इस कदर तेरी तस्वीर को चूमा था मैंने .

कितनी छोटी सी दुनिया है मेरी, एक मै हूँ और एक दोस्ती तेरी!!

इंसान को इंसान धोखा नहीं देता है बल्कि… वो उम्मीदें धोखा दे जाती हैं जो वो दूसरों से रखता है।।


मोहब्बत है गज़ब उसकी शरारत भी निराली है, बड़ी शिद्दत से वो सब कुछ निभाती है अकेले में…!!

देख लो उनके नफरतो के सितम …… तेल ना बाती, फिर भी जल रहे है .

मत पूछ मेरा कारोबार क्या है । दिलो का सौदा करता हु। वो भी नफरतो के बाजार में ।

ये ‪‎इश्क़‬ भी नशा-ए-‪‎शराब‬ जैसा हैं, करे तो मर जाये छोड़े तो किधर जाये.

परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है…

रिश्ते खराब होने की एक वजह ये भी है, कि लोग अक्सर टूटना पसंद करते है पर झुकना नहीं!

चलो अब जाने भी दो….क्या करोगे दास्तां सुनकर,,, ख़ामोशी तुम समझोगे नही….और बयां हमसे होगा नही !

तासीर इतनी ही काफी है की वो मेरा दोस्त है, क्या ख़ास है उसमे ऐसा कभी सोचा ही नही

अजीब दस्तूर है, मोहब्बत का, रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है

शौक से बदलो मगर इतना याद रखना.. ऐ यार मेरे!.. हम जो बदले तो करवटें बदलते ही रह जाओगे!

ऐसा जीवन जियो कि अगर कोई आपकी बुराई भी करे तो कोई उस पर विश्वास ना करे।

मेरी बात सुन ‪‎पगली‬ अकेले ‪‎हम‬ ही शामिल नही है इस ‪‎जुर्म‬ में… ‎जब नजरे‬ मिली थी तो ‪मुस्कराई तू‬ भी थी…

काबील नजरो के लीये हम जान दे दे पर.. कोई गुरुर से देखे ये हमे मंजुर नही.

जीवन में कभी किसी को कसूरवार न बनायें… अच्छे लोग खुशियाँ लाते हैं! बुरे लोग तजुर्बा!!

हाथ में टच फ़ोन, बस स्टेटस के लिये अच्छा है… सबके टच में रहो, जींदगी के लिये ज्यादा अच्छा है..

कीस कदर मासूम सा लहजा था उसका, धीरे से जान कहकर बेजान कर दीया..!

उसके हाथों पर अपना नाम देखा, तो मैं बहुत खुश था वो बड़े मासूम से लहज़े में बोली, तेरे हमनाम और भी हैं


मेरा कुछ ना ऊखाड सकोगे तुम मुझसे दुश्मनी करके…. मुझे बर्बाद करना चाहते हो तो,मुझसे मोहब्बत कर लो!!

लोग कहते हैं कि वक़्त किसी का ग़ुलाम नहीं होता, फिर तेरी मुस्कराहट पे वक़्त क्यूँ थम सा जाता है…!!!

मैं ‪‎famous हूँ क्युकि में सच लिखता हूँ तभी आज ज़माने में सबसे मेंहंगा बिकता हूँ

ना वफ़ा का जिक्र होगा ना वफ़ा की बात होगी, अब जिससे भी मोहब्बत होगी मार्च क्लोज़िंग केबाद होगी।

गिटार सिखा था जिस को पटाने के लिए ….. आज ऑफर आया है उसकी शादी में बजाने के लिए|

हमारी ताकत का अंदाजा हमारे जोर से नही….. दुश्मन के शोर से पता चलता है…..!!

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हु|

तूने हमें छोड दिया कोई बात नहीं , हम दुआ करेंगे कोई तुझे ना छोडे किसी और के लिए|

सिर्फ लफ़्ज़ों को न सुनो, कभी आँखें भी पढो .. कुछ सवाल बड़े खुद्दार हुआ करते है.

मजा आता है किस्मत से लड़ने में, किस्मत आगे बढ़ने नहीं देती और मुझे रुकना आता नहीं..!!

आज पगली बरसो बाद मिली और गले लगकर रोने लगी…जानते हो वो वही थी जिस ने कहा था की तेरे जैसे हजारो मिलेंगे…..

एक हसरत थी की कभी वो भी हमे मनाये…पर ये कम्ब्खत दिल कभी उनसे रूठा ही नही..!!

इश्क में इसलिए भी धोखा खानें लगें हैं लोगदिल की जगह जिस्म को चाहनें लगे हैं लोग

अब शिकायतेँ तुम से नहीँ खुद से है.. माना के सारे झूठ तेरे थे.. लेकिन उन पर यकिन तो मेरा था!!

एहसास अल्फाजों के मोहताज नहीं होते.फिर क्यों तेरे हर लफ्ज़ का बेसब्री से इंतजार रहता है

बो क्या सहेगी दर्द ए इश्क यारो….. .कल activaसे गिरी..पगली अभी तक रो रही है |

लोग कहते है,तुझे तेरी भाईगीरी एक दिन जरुर मरवायेंगी…. मैने लोगोंसे Pyar से कहा क्या करु, सबको आती नहीं और,‪ ‎मेरी‬ जाती नही!!

क्या लूटेगा जमाना खुशियो को हमारी…हम तो खुद अपनी खुशिया दुसरो पर लुटाकर जीते है.

फ़ासले कम ना हो सके, आमना-सामना रहा बरसों…

किसी ने यूँ ही पुछ लिया हमसे कि दर्द की कीमत क्या है.. हमने हँसते हुए कहा, पता नहीं कुछ अपने मुफ्त में दे जाते हैं।

इश्क का समंदर भी क्या समंदर है, जो डूब गया वो आशिक जो बच गया वो दीवाना…


ताजगी मिज़ाज में और रंगत जैसे पिघला हुआ सोना, यहाँ तारीफ तेरी नहीं है मेरे साकी, यह ज़िकर शराब का है।

मेरी लड़खड़ाहट तुम, मुझ तक ही रहने दो, जो बात मैंने होश की कर दी, तो बेहोश हो जाओगे.

तुम्हे अमीरी पे नाज़ है, में गरीब हु मुझे गरीबी पे नाज है

बेहतरीन इंसान अपनी मीठी जुबान से ही जाना जाता है वरना अच्छी बातें तो दीवारों पर भी लिखी होती है !

प्यार, एहसान, नफरत, दुश्मनी, जो चाहे वो हमसे कर लो आप की कसम, वही दुगुना मिलेगा.

हम तुम्हें मुफ़्त में जो मिले हैं, क़दर ना करना हक़ है तुम्हारा..!!

जलील करके जीस फकीर को तुने किया रुखसत. वौ भीख लेने नही तुजे दुआऐं देने आता था.

नेक बनने के लिए ऐसी कोशिश करो जैसी कोशिश खूबसूरत दिखने के लिए करते हो.

गुलाम बनकर जिओगे तो कुत्ता समजकर लातमारेगी ये दुनिया.. नवाब बनकर जिओगे तो शेर समझ सलामठोकेगी ये दुनिया.

अगर प्यार है तो शक़ कैसा अगर नहीं है तो हक़ कैसा.

तेरी आँखों के जादू से तू ख़ुद नहीं है वाकिफ़ ये उसे भी जीना सीखा देती है जिसे मरने का शौक़ हो!!

न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर..तेरे सामने आने से ज़्यादा.. तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है…!!!

तु बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करता है, लेकिन तुझे अंदाजा भी नहीं की वो लोग भी मेरे पैर छुते है,
जिन्हें तु भरी महफ़िल में सलाम करता है.

हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर की पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं.

जब भी अपनी शख्शियत पर अहंकार हो, एक फेरा शमशान का जरुर लगा लेना..

तेरे दीदार की आस में आते हैं तेरी गलियों में वरना सारा शहर पडा है आवारगी के लिए.

भगवान से वरदान माँगा कि दुश्मनों से पीछा छुड़वा दो अचानक दोस्त कम हो गए.

अपनी भूख का इल्ज़ाम न दे तू खुदा को.. वो माँ के पेट में भी बच्चों को पाल देता है !

इस शिद्दत से निभा अपना किरदार पर्दा गिर जाए पर तालियाँ बजती रहे.

मेरे हाल पर हसने वालो बस इतना याद रखना लोगो का तो वक्त आता हे पर मेरे पूरा दोर आएगा.

थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी मुनासिब होगा मेरा हिसाब कर दे.

तु बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करता है, लेकि

न तुझे अंदाजा भी नहीं की वो लोग भी मेरे पैर छुते है, जिन्हें तु भरी महफ़िल में सलाम करता है.
माचिस की ज़रूरत यहाँ नहीं पड़ती यहाँ आदमी आदमी से जलता है.

सुना है इश्क़ से तेरी बहुत बनती है एक एहसान कर उस से क़ुसूर पुछ मेरा.


मेरे इरादे मेरी तक़दीर बदलने को काफी हैं मेरी किस्मत मेरी लकीरों की मोहताज़ नहीं.

मेरे लफ़्ज़ों की सही पहचान, अगर वो कर लेते उन्हें मुझसे ही नहीं खुद से भी मोहब्बत हो जाती.

आप दिल से यूँ पुकारा ना करो, हमको यूँ प्यार से इशारा ना करो, हम दूर हैं आपसे ये मजबूरी है हमारी, आप तन्हाइयों मे यूँ रुलाया ना करो..

अगर जींदगी मे कुछ पाना हो तो तरीके बदलो ईरादे नही.

अजीब दस्तूर है मोहब्बत का रूठ कोई जाता है, टूट कोई जाता है.

भरी जेब ने दुनिया की पहेचान करवाई और खाली जेब ने इन्सानो की.

एक सवेरा था जब हँस कर उठते थे हम और आज कई बार बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है.

तेरे होठों से भी क्या खूब नशा मिला यूँ लगता है तेरे जूठे पानी से ही शराब बनती है|

ख़ुशी तकदीरो में होनी चाहिए तस्वीरो में तो हर कोई खुश नज़र आता है|

दुनिया के बड़े से बड़े साइंटिस्ट ये ढूँढ रहे है की मंगल ग्रह पर जीवन है या नहीं पर आदमी ये नहीं ढूँढ रहा कि जीवन में मंगल है या नही.

जब लगे पैसा कमाने, तो समझ आया शौक तो मां-बाप के पैसों से पुरे होते थे अपने पैसों से तो सिर्फ जरूरतें पुरी होती है.

मैंने अपनी मौत की अफवाह उड़ाई थी दुश्मन भी कह उठे आदमी अच्छा था.

कोई मिल जाए तुम जैसा ये ना-मुमकिन है पर तुम ढूँढ लो हम जैसा इतना आसान ये भी नही.

दम कपड़ों में नहीं, जिगर में रखो बात कपड़ों में होती तो सफेद कफन में लीपटा मुर्दा भी सुलतान मिर्ज़ा होता.

इस कदर हर तरफ तन्हाई है, उजालो मे अंधेरों की परछाई है, क्या हुआ जो गिर गये पलकों से आँसू, शायद याद उनकी चुपके से चली आई है.

चाहे दुश्मन मिले चार या चार हज़ार सब पर भारी पड़ेंगे मेरे जिगरी यार.

कितनी खुबसूरत सी हो जाती है ये दुनिया जब अपना कोई कहता है कि तुम याद आ रहे हो.

कहते हैं के कब्र में सुकून की नींद आती है अज़ीब बात है कि ये बात भी ज़िन्दा लोगों ने कही है.

नशा हम किया करते है इलज़ाम शराब को दिया करते है कसूर शराब का नहीं उनका है जिनका चहेरा हम जाम मै तलाश किया करते है.

कहां कोइ मिला जिस पर दिल लुटा देते हर एक ने धोखा दिया किस किस को भुला देते रखते हैं दिल में छुपा के अपना दर्द करते बयान तो महफिल को रुला दे.

वो बार बार मुझसे पूछती है आखिर क्या है मोहब्बत अब क्या बताऊं उसे की उसका पूछना और मेरा ना बताना यही मोहब्बत है.

तू मोहब्बत है मेरी इसीलिए दूर है मुझसे अगर जिद होती तो शाम तक बाहों में होती.

आपसे मुलाक़ात की अजब निशानी है, हँसते हँसते आंखे भर आती हें जिंदगी में हो चाहे कितनी परेशानी, आपके साये में हर मुश्किल आसा.

कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं,

किसी की महोब्बत से हमने क्या पाया है रात की नींद और दिन का चैन गंवाया है क्या करें हम इस दिल का जिसे आज बरबाद हो कर भी होश नहीं आया है

बहुत तकलीफ देती है ना मेरी बातें तुम्हें देख लेना एक दिन मेरी खामोशी तुम्हें रुला देगी

नदी जब किनारा छोड़ देती है राह की चट्टान तक तोड़ देती है बात छोटी भी अगर चुभ जाती हैं दिल में, ज़िन्दगी के रास्तों को मोड़ देती है

शतरंज की चालों का खौफ़ उन्हें होता है जो सियासत करते हैं साहेब हम तो यारी करते हैं

भगवान अगर कुछ देना चाहें तो पहले दोनो हाथ खाली कर देता है… ताकि आपको कुछ बेहतर दे सकें !!

बिखर कर रह गया.. वजूद मेरा..! मै तो समझा था, इश्क संवार देगा मुझे..!!

मज़हब पता चला, जो मुसाफ़िर की लाश का!! चुपचाप आधी भीड़ घरों को चली गई!!

तू बदनाम ना हो इसलिये जी रही हूं मै, वरना तेरी चौखट पे मरने का इरादा रोज़ होता है..

मजा चख लेने दो उसे गेरो की मोहबत का भी, इतनी चाहत के बाद जो मेरा न हुआ वो ओरो का क्या होगा |

बन के तुम मेरे मुझको मुकम्मल कर दो….अधूरे-अधूरे अब हम ख़ुद को भी अच्छे नहीं लगते.

Hum Bhi Dariya Hain Humein Apna Hunar Maloom Hai Jis Taraf Bhi Chal Parainge Raasta khud hi bna lenge.

Kheench Leti Hai Unki Mohabbat Mujhe Har Baar !!!! Warna Bahut Baar Mile Thay Unse Aakhri Baar.

बेशक वो ख़ूबसूरत आज भी है, पर चेहरे पर वो मुस्कान नहीं, जो हम लाया करते थे..!!

अपनी हार पर कितना शकून था मुझे, जब उसने गले लगाया जीतने के बाद.

हर बार सम्हाल लूँगा गिरो तुम चाहो जितनी बार, बस इल्तजा एक ही है कि मेरी नज़रों से ना गिरना…!!

आज भी लोग हमारी इतनी इज्जत करते हैं, हमारे ‪‎status‬ वो सर झुकाकर पढ़ते हैं ..!!

तेरी मोहब्बत को कभी खेल नही समजा, वरना खेल तो इतने खेले है कि कभी हारे नही



हकीकत में ये खामोशी हमेशा चुप नही रहती, कभी तुम गौर से सुनना बहुत किस्से सुनाती है.

न ज़ख्म भरे, न शराब सहारा हुई, न वो वापस लौटीं, न मोहब्बत दोबारा हुई…

चलो अब जाने भी दो.. क्या करोगे दास्तां सुनकर, ख़ामोशी तुम समझोगे नहीं, और बयां हमसे होगा नही

खुद को बिखर्ने मत देना, कभी किसि हाल मेँ, लोग गिरे हुए माकान कि, ईटे तक लेजा ते है.

प्यार करना सीखा है, नफरतों का कोई ठौर नहीं….!! बस तू ही तू हैं दिल में, दूसरा कोई और नहीं….!!

ज़िंदगी से बस यही गिला है मुझे, तू बहुत देर से मिला है मुझे ।

तब, महबूबा की गलियों के चक्कर काट काट कर जवानी बिता दी जाती थी अब, मोबाइल को चार्जिंग में लगाये लगाये बीत रही है ।

है कोई वकील इस जहान में,जो हारा हुआ इश्क जीता दे मुझको.

Sub Kuch Hasil Nahi Hota Zindagi Mein Yahan, Kisi Ka ‘Kaash’ To Kisi Ka ‘Agar’ Rah Hi Jaata Hai…!!

Bikne Wale Aur Bhi Hain Yahan, Jao Jaa Kar Khareed Lo, Hum ‘Kimat’ Se Nahi ‘Kismat’ Se Mila Karte Hain….!!!

Sunaa Hai Teri Aankho Se log Qatal hote Hai…Ek Nazar Mujhe Bhi Dekh Le… Mujhe Zindagi Achi Nahi Lagti…!!!

Jitni hasrat thi tujhe ‘PAANE’ ki.. aaj utni hasrat hai tujhe ‘BHUL’ jaane ki…!!!

अब कहा जरूरत है पत्थर उठाने की, लोग जुबान से ही रिश्ते तोड जाते है ।

जीतें है इस आस पर एक दिन तुम आओगे, मरते इसलिए नहीं क्युँकी अकेले रह जाओगे..!!

एकअजीब सी जंग छिडी हे तेरी यादो को लेकर, आँखे कहती है सोने दे, दिल कहता है रोने दे!!!!

हम भी दरिया है, हमे अपना हुनर मालूम हे। जिस तरफ भी चल पडेंगे, रास्ता हो जायेगा।

समझदारी आने तक यौवन चला जाता है जब तक माला गुंथी जाती है फूल मुरझा जाते हैं।

तुम कहो या ना कहो… तकाज़े सब बयां कर देते हैं…. फिर चाहें बेरुखी हो या मोहब्बत.

गुलाब से पूछो कि दर्द क्या होता है, देता है पैगाम मोहब्बत का और खुद कांटो में रहता है.

हमसे मोहब्बत का दिखावा न किया कर, हमे मालुम है तेरे वफा की डिगरी फर्जी है ..!!

बस ऐक चहेरे ने तन्हा कर दिया हमे, वरना हम खुद ऐक महेफिल हुआ करते थे…!!!

पढ़ रहा हुं मैं इश्क की किताब अगर बन गया वकील तो , बेवफओं की खैर नही..।

दुश्मन के सितम का खौफ नहीं हमको, हम तो दोस्तों के रूठ जाने से डरते हैं.!
!
सिर्फ तूने ही कभी मुझको अपना न समझा, जमाना तो आज भी मुझे तेरा दीवाना कहता है

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका इश्क मुकम्मल होता है , हमने तो यहाँ इंसानों को बस बर्बाद होते देखा है

मौत और मोहोब्बत तो बस नाम से बदनाम है ! असली दर्द तो Slow Internet देता है !!

कुछ लोग आंसुओं की तरह होते हैं पता ही नहीं चलता साथ दे रहे हैं या साथ छोड़ रहे हैं….!!

खूश्बु कैसे ना आये मेरी बातों से यारों, मैंने बरसों से एक ही फूल से जो मोहब्बत की है ।

उसके दिलमें नही तो क्या हुआ.. उसकी ब्लॉकलिस्ट में तो है हम.

क्यूँ घबराता है ऐ इंसान तू कुछ खोने से, जीवन तो शुरू ही होता है रोने से.

खुद की “Selfy” निकालना सेक़ेन्डों का काम है, लेक़िन खुद की “Image” बनानें में जिन्दगी गुजर जाती है !!

मिट्टी का तन, मस्ती का मन, छण भर जीवन, मेरा परिचय

और भी बनती लकीरें दर्द की शुकर है खुदा तेरा जो हाथ छोटे दिए।

सीढिया उन्हे मुबारक हो… जिन्हे छत तक जाना है… मेरी मन्जिल तो आसमान है.. रास्ता मुझे खुद बनाना है..।

सारी दुनिया रूठ जाने से मुझे मुझे गरज नहीं,बस एक तेरा रूठ जाना मुझे तकलीफ देता है..

मैंने भी बदल दिये हैं जिन्दगी के उसूल । अब जो याद करेगा सिर्फ वही याद रहेगा ।

रूह तक नीलाम हो जाती है इश्क के बाज़ार में, इतना आसान नहीं होता किसी को अपना बना लेना

आईने के सामने सजता सँवरता है हर कोई, मगर आइनों सी साफ जिन्दगी जीता है कोइ-कोई

हेंसीयत तो इतनी हैं की.. जब आंख उठाते हैं तो नवाब भी सलाम ठोकते हैं….!!!

काश मेरा घर तेरे घर के करीब होता..। मोहब्बत ना सही देखना तो नसीब होता..

इस दुनीया मैं हम से जलने वाले बहोत हैं.. मगर उससे कोइ फरक नहीं पड़ता.. !! क्योंकी हम पे मरने वाले भी बहोत हैं !

उसके ख्याल से ही इतनी ख़ूबसूरत है दुिनयां अगर वो साथ हो तो क्या बात है..

दोस्ती का इरादा था.. प्यार हो गया।। दोस्तो अब दुआ दीजिये… सलाह नही


मैंने अपनी मौत की अफवाह उड़ाई थी, दुश्मन भी कह उठे आदमी अच्छा था..

नसीब का लिखा तो मील ही जायेगा, या रब …. देना हे तो वो दे जो तकदीर मे ना हो .

कतल हुवा इस तरह हमारा किश्तों में, कभी खंजर बदल गये कभी कातिल ।।

मुझे ढूंढने की कोशिश अब न किया कर, तूने रास्ता बदला तो मैंने मंज़िल बदल ली…!!

इन्सान की चाहत है कि उड़ने को पर मिले, और परिंदे सोचते हैं कि रहने को घर मिले…!

तेरी याद से अच्छी तो मेरी सराब हे ज़ालिम, कमब्क्त रुलाने के बाद सुला तो देती हे मुझे !!

बेर कैसे होते है ‘शबरी’ से पूछो, राम जी से पूछोगे तो मीठा ही बोलेंगे !!

मजबूत रिश्ते और कडक चाय……धीरे धीरे बनते है…!!

यूँ तो शिकायते तुझ से सैंकड़ों हैं मगर.. तेरी एक मुस्कान ही काफी है सुलह के लिये….!!

ऊपर जिसका अन्त नही उसे आसमां कहते है॥ इस जहां मे जिसका अन्त नही उसे मां कहते है॥

बड़ी मुस्किल से बनाया था अपने आपको काबिल उसके, उसने ये केहकर बिखेर दिया… की तुमसे मोह्बत तो है पर पाने की चाहत नही हे !!

छोड़ तो सकता हूँ मगर छोड़ नहीं पाता उसे, वो शख्स मेरी बिगड़ी हुई आदत की तरह है.

हम तो यूहीँ दिल साफ रखा करते थे….. पता नहीं था कीमत चेहरों की होती है..

इन बादलों का मिज़ाज मेरे मेहबूब से काफी मिलता हे , कभी टुटके बरसाते हे तो कभी बेरुखी से गुजर जाते हे !!
फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल, इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है…..!!

मेरी जिंदगी का खेल शतरंज से भी मज़ेदार निकला.. मैं हारा भी तो अपनी हीं रानी से..!!

वो फिर से लौट आये थे मेरी जिंदगी में….अपने मतलब के लिये और हम सोचते रहे की हमारी दुआ में दम था ..

शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी, अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी

होठ मिला दिए उसने मेरे होठो से यह कहकर… शराब पीना छोड़ दोगे तोह यह जाम तुम्हे रोज़ मिलेगा..

attitude तो‬ सब लोगों के पास होता है, बस फर्क इतना है कि किसी का Attitude छिप जाता है, और हमारा Attitude तो छप जाता है..!

आगरा का ताजमहल गवाह हैं की औरत जीते जी ही नहीं मरने के बाद भी जेबें खाली करवा सकती है.

खुशियाँ बटोरते बटोरते उम्र गुज़र गई .. पर हाथ कुछ न लगा ! तब जाकर ये एहसास हुआ कि .. खुश तो वो लोग हैं “जो खुशियाँ बाँट रहे थे” !!

इतिहास गवाह हैं (खबर..) हो या (कबर..) खोदते ‘अपने’ ही हैं..

यूँ ही शौक़ है हमारा तो शायरी करना ।। किसी की दुखती रग छू लूँ.तो यारों माफ़ करना..

नीलाम कुछ इस कदर हुए, बाज़ार-ए-वफ़ा में हम आज, बोली लगाने वाले भी वो ही थे, जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे!

अकल कितनी भी तेज ह़ो नसीब के बिना नही जित सकती, बिरबल काफी अकलमंद होने के बावजूद.. कभी बादशाह नही बन सका ।

पानी दरिया में हो या आँखों में, गहराई और राज़ 2नो में होते हैं!!

ना छेड़ किस्सा वोह उल्फत का बड़ी लम्बी कहानी है मैं जिन्दगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है..

ये, फ़र्क़ तो है, दरमियाँ तेरे और मेरे, तुम कह कर भी नहीं कहते, और हम कह ही नहीं पाते….

तेरी बेरुखी ने छीन ली है शरारतें मेरी और लोग समझते हैं कि मैं सुधर गया हूँ ..!

गीली लकड़ी सा इश्क उन्होंने सुलगाया है…ना पूरा जल पाया कभी, ना बुझ पाया है

दिलों की बात करता है ज़माना… पर मोहब्बत आज भी चेहरे से शुरू होती है…

चाहे कितनी भी डाईटिंग कर लों हसीनाओ जब तक भावखाना बंद नही करोगी …वजन कम नही होगा…

इतनी करुंगा मुहब्बत के तू खुद कहेगी। देखो वो मेरा आशिक़ जा रहा है..!!!

पालने मेँ Beti किसी को नही चाहिए….. मगर बिस्तर पर Leti हरेक को चाहिए….

Jab waqt aya to wo bik chuka tha…… hame ameer hone me zamana guzar gaya!!

Jab me Aata tha yaha to patake phode gaye the Angle k aane pe koi welcome hi kardo dosto
Bahut bheed ho gayi thi uske dil me achcha hua hum waqt pe nikal gyae.

Ye Zamaana Jal JayeGa Kisi Shole Ki Tarah….. Jab Tere Haath Ki Ungli Me Hogi Mere Naam Ki Anghoothi..

Kisi se itna pyar hi mt karo ki ush se 1 minute door rehna bhi aapko 1 day jaisa lge. Ishliye be single be happy.

पैसों से तो ‪किताबें खरीदी‬ जाती हैं….. ज्ञान देने के लिए तो हमारे ‪‎Status‬ ही काफी हैं !!

पगली ‪Block‬ करके तो चली गयी पर आज भी मेरे पेज के ‪‎status‬ पढ़ के ही सोती है।

जिस दिन मेरी ‪‎मौत‬ आएगी तो लोग कहेँगे … इंसान मिला तो नही पर ‪‎Status‬ अच्छे डालता था…

मेरा कुछ ना ऊखाड सकोगे तुम मुझसे दुश्मनी करके… मुझे बर्बाद करना चाहते हो तो,मुझसे मोहब्बत कर लो.


लाख समझाया उसको की दुनिया शक करती है…. मगरउसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की.

तेरा मेरा प्यार तो साला फलोप हो गया….. लेकिन तेरी यादो मे लिखे मेरे सारे ‪Status‬ सुपरहिट हो गए.

तुम मौसम की तरह बदल रही हो, मैं फसल की तरह बरबाद हो रहा हूँ…

हमारा ‪‎Status‬ हमारी ‪Personality‬ को शोभा देता है…. क्योंकि बात सिर्फ ‪‎Status की‬ है….।।

सुना है आज उस की आँखों मे आसु आ गये, वो बच्चो को सिखा रही थी की, मोहब्बत ऐसे लिखते है..

दील चुराना शौख नही… पेशा है मेरा…. क्या करें ‘Status’ ही कुछ एसा है मेरा ||‪

कुछ खास जादू नही है मेरे पास, बातें दिल से करता हूँ..

रोज ‪ Status‬ बदलने से जिंदगी नहीँ बदलती . जिंदगी को बदलने के लिए अपना भी एक Status होना जरुरी हे.
एक आप ही हो जो मुझे समझ नहीं पाते… वरना.. लोग तो आज भी मेरे ‪#‎status‬ के दीवाने है!

कुछ ‪Special‬ लड़कियाँ जिनको शौक नही ‪Whatsapp‬ चलाने का…. वो सिर्फ मेरा ‪‎Status‬ पढ़ने के लिए ‪Online‬ आती हैं॥

Log churane lgge hai ‪”Status‬” mere… Gujarish hai meri gum bhi chura lo!!

KaAsH kUcH AiSa hO JaYe…. Vo kAhE Ki ‪‎StAtUs‬ lIkHnE WaLa mErA Ho jAyE…!!

Gulami to Sirf teri ishq ki Thi…..Baki to ye DIL pehle bhi Nawab.. tha Or Aaj bhi Nawab…hai

Bewajah! jb tum mujhse ladte the na…. Bs usi din se meri tumse mahobbat ki shuruat ho gyi thi!!

दिल करता है की लिपट जाऊँ रूह बन कर तेरे जिस्म से… कि जब तू मुझ से जुदा हो तो मेरी जान निकल जाये..
Wo ishaq me yaro kamal kar bethe… Likh kar I love you send to all kar bethe!!

StatUS‬ nahi… DekhO Gye ‪HamARA‬..
Ye Wafa ka nahi… WiFi ka zamana hai

Takleef to zindagi deti hai maut ko to log yuhi badnaam karte hai!!

Tum kisi or se LOVE kar lo hame sudharne mai Time lagega…

Hamne chor diya shoq-a-mohabat ka…varna tere shar ki khidkiyan to aaj bhi isare karti hai.
Sher mai hu mai tere..aake mujhe dhek to le.

Ye sala pyar ho gya ki UPSC ka exam ho gya pass hi ho rha.

Babuji Exam se dar nahi lagta..slow internet se lagta hai.

per mai moch and slow internet connection aadmi ko kbhi aage badne nahi dete.
[/su_note]
Aql badam khane se nahi thokar khane se aati hai.

Yaaro Ki Mehfil Aise Jamai Jati Hai, Kholne Se Pehle Botal Hilai Jati Hai.

Fiqr kar uski jo teri fiqr kre, u to zindgi mai bhut hai hamdard.

Kehte Hein Waqt Se Pehle Or Kismat Ke Bina Kisi Ko Kuch Nahi Milta…

Hum tere bina ab rhe nahi skte tere bina kya vjood mera.

Pyar or war mai sab jayaz hai bidu.

Kyu khoobsurat ladkiyo ke paas dimaag nahi hota!

Dil ko zubaan, aankhon ko sapne mil gaye

Meri zindagi chal toh rahi thi … par tere aane se maine jeena shuru kar diya

Main marne ke liye nahi peeta … peene ke liye marta hun.

Mai apna chehra bhul skta hu but tumhara nahi.

Roti ussi ko milni chahiye jise uski bhook ho.

Aksar chirag wohi bhujate hai … jo pehle usse rosan karte hai

Bimaar ke saath koi bimaar nahi ho jaata hai

Salo lag jate pyar wale jkham bharne mai.


Sun rha hai na tu ro rha hu main.

Teri yad satati hai… mujko rulati hai.

Aksar chirag wohi bhujate h … jo pehle usse rosan karte hai

Fiqr kar uski jo teri fiqr kare, yu to zindgi me bhut hai hamdard.

Hum tere bina ab reh nahi sakte tere bina kya wajood mera.

Pyar or waar mein sab jayaz hain

Life is too short to waste on hating other people.

Dil ko zubaan, aankhon ko sapne mil gaye.

SUCCESS is depends on 2nd letter.

Main marne ke liye nahi peeta … peene ke liye marta hu.

Distance doesn’t matter in true love.

Salo lag jate pyar wale jakham bharne mein.

Koyi mujhko yu mila hain jaise banjaare ko ghar.

मुजे कोइ ऐसी जगह ले चलो जहा रहु सिर्फ मे और मेरी तन्हाई

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं

साथी तो मुझे अपने सुख के लिए चाहिए दुखों के लिए तो मैं अकेला काफी हूँ…..

इतने कहाँ मशरूफ हो गए हो तुम, आजकल दिल दुखाने भी नहीं आते…!

यू पलटा मेरी किस्मत का सितारा मेरे दोस्तो उसने भी छोड़ दिया और अपनों ने भी

वाकिफ़ है वो मेरी कमज़ोरी से…! वो रो देती है, और मैं हार जाता हूँ…

मैने सिखी नही कोई शायरी महफिलों मे जाकर ! हालात अक्सर दर्द सहना सिखा देते है

मुश्किल होता है जवाब देना. जब कोई खामोश रह करभी सवाल कर लेता है!

Bahut gurur tha sbko apni daulat pe.. zara sa zameen kya hili sb aukat me aa gye..

दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते..

जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे, कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे !!

दिन ऐसे गुजारो की रात को चैन से सो सको.. और रात ऐसी गुजारो की सुबह खुद से नजरे मिला सको.

देखना.. एक दिन बदल जाऊगा पूरी तरह मैं तुम्हारे लिए न सही.. लेकिन… तुम्हारी वजह से ही सही..!!

देखकर तुमको अकसर हमें एहसास होता है कभी कभी ग़म देने वाला भी कितना ख़ास होता है.

दुनिया को इतना सीरियस लेने की जरुरत नहीं, यहाँ से कोई जिन्दा बच के नहीं जाएगा..!!!

दुआ कभी खाली नही जाती, बस लोग इंतजार नही करते.

नाम और बदनाम में क्या फर्क है ? नाम खुद कमाना पड़ता है,और बदनामी लोग आपको कमा के देते हैं!


सोने के जेवर ओर हमारे तेवर लोगो को अक्सर बहोत मेंहगे पडते हे.

ढूंढ़ रहा हु लेकिन नाकाम हु अभी तक, वो लम्हा जिस में तुम याद ना आये,


तरक्की की फसल, हम भी ‘काट’ लेते… थोड़े से तलवे, अगर ‘हम’ भी चाट लेते.

तेरी मोहब्बत पर मेरा हक़ तो नही मगर.. जी चाहता है क़ि आखिरी सांस तक तेरा इन्तजार करू..!!

तेरे ही नाम से ज़ाना जाता हूं मैं, ना जाने ये शोहरत है या बदनामी.

तुम वादा करो आखरी दीदार करने आओगे, हम मौत को भी इंतजार करवाएँगे तेरी ख़ातिर,

बात इतनी सी थी कि तुम अच्छे लगते थे, अब बात इतनी बढ़ गई है कि तुम बिन कुछ अच्छा नहीं लगता!!!

बेमतलब की जिंदगी का सिलसिला ख़त्म..!अब जिसतरह की दुनियां, उस तरह के हम…!!

मंदिर भी क्या गज़ब की जगह है! गरीब बाहर भीख मांगते हैं, और अमीर अन्दर.

मालुम था कुछ नही होगा हासिल लेकिन… वो इश्क ही क्या जिसमें खुद को ना गवायाँ जाए.

मैंने समुन्दर से सीखा है जीने का सलीका, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना.


मैँने अपना गम आसमान को क्या सुना दिया… शहर के लोगों ने बारीश का मजा ले लिया.

मूंगफली में छिलके और छोरी में नखरे ना होते तो जिंदगी कितनी आसान हो जाती.

में उन ही चीज़ों का शोख़ रखता हु जो मुझे मिलती हे । उन चिंजो का नहीं जिनकी इजाजत मेरे माँ बाप नहीं देते .

मेरा वक्त बदला है… रूतबा नहीं तेरी किस्मत बदली है… औकात नहीं ।

मेरे मरने के बाद मेरी कहानी लिखना, कैसे बर्बाद हुई मेरी जवानी लिखना.

मुझे जॉब करने का कोई सोख नहीं है ये तो मम्मी-पापा की जींद है की तेरे लिए छोरी कहा से धुंध के लाएंगे.

रुलाने मे अक्सर उन्हीँ लोगो का हाथ होता है जो हमेशा कहते है कि तुम हँसते हुए अच्छे लगते हो.

वो तो खिलोने वाले की मजबूरी है वरना बच्चो को रोते हुए देखना उसे भी अच्छा नही लगता ।

वो काग़ज़ आज भी फूलों की तरह महकता है.. जिस पर उसने मज़ाक़ में लिखा था ..मुझे तुमसे मोहब्बत है.

शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है, जंगल मे चुनाव नही होते.

अब मैं कोई भी बहाना नहीं सुनने वाला .. तुम मेरा प्यार…. मुझे प्यार से वापस कर दो.

अब किसी और से मोहब्बत कर लूं, तो शिकायत मत करना ये बुरी आदत भी मुझे तुमसे ही लगी है…!

अर्ज़ किया है.. ज़िन्दगी में अगर ग़म न होते.. तो शायरों की गिनती में हम न होते.

अगर कहो तो आज बता दूँ मुझको तुम कैसी लगती हो। मेरी नहीं मगर जाने क्यों, कुछ कुछ अपनी सी लगती हो।
अजीब तमाशा है मिट्टी से बने लोगो का, बेवफाई करो तो रोते है और वफा करो तो रुलाते है ॥

आज टूटा एक तारा देखा, बिलकुल मेरे जैसा था। चाँद को कोई फर्क नहीं पड़ा, बिलकुल तेरे जैसा था।।

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ऐ बेखबर, शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं..!!

इतनी कामीयाबि हाँसिल करूंगा की तु जे माफी मांगने के लिये भी लाईन मेँखडा होना पडेगा.

करेगा जमाना कदर हमारी भी एक दिन देख लेना… बस जरा ये भलाई की बुरी आदत छुट जाने दो.

क़दर किरदार की होती है वरना कद में तो साया भी इंसान से बड़ होता है..

कांटो से बच बच के चलता रहा उम्र भर… क्या खबर थी की चोट एक फूल से लग जायेगी.

काश तुम मेरी मौत होते तो, एक दिन जरुर मेरे होते.

क्या किसी से शिकायत करें जब अपनी तक़दीर ही बेवफा है।

क्यों गुरूर करते हो अपने ठाठ पर… मुट्ठी भी खाली रहेगी जब पहुंचोगे घाट पर..

इस दुनिया मे कोई किसी का हमदर्द नहीं होता … लोग ज़नाजे के साथ भी होते हैं तो सिर्फ अपनी हाजिरी
गिनवाने के लिए.

बताँऊ तुम्हें एक निशानी उदास लोगों की….. कभी गौर करना यें हसंते बहुत हैं

हर शाम सुहानी नहीं होती, हर चाहत के पीछे कहानी नहीं होती, कुछ तो असर ज़रूर होगा मोहब्बत में, वर्ना गोरी लड़की काले औज़ार की दीवानी नहीं होती।

तुम आस पास ना आया करो जब मैं शराब पीता हूँ…क्या है कि मुझसे दुगना नशा सभांला नहीं जाता.

पलट के देख ज़ालिम, तमन्ना हम भी रखते हैं, हुस्न तुम रखती हो, तो जवानी हम भी रखते हैं; गहराई तुम रखती हो तो लंबाई हम भी रखते हैं!

इश्क की पतंगे उडाना छोड़ दी ….. वरना हर हसीनाओं की छत पर हमारे ही धागे होते.

मैंने भी बदल दिये ज़िन्दगी के उसूल, अब जो याद करेगा… सिर्फ वो ही याद रहेगा…!!

मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया…

पहले हमें भी मोहबत का नशा था यारो पर जब से दिल टूटा है नशे से मोहबत हो गई है

Pal pal tarse the ish pal ke liye vo pal bi aya, kuch pal ke liye shocha ishe rok le har pal ke liye par vo ruka hi nhi ek pal ke liye.

छोटी-छोटी बातें करके बड़े कहाँ हो जाओगे… पतली गलियों से निकलो तो खु
ली सड़क पर आओगे…

ईरादे सब मेरे साफ होते है, इसीलिए लोग अक्सर मेरे खिलाफ होते हेँ !

मैँ कभी बुरा नही था उसने मुझे बुरा कह दिया…फिर मैँ बुरा बन गया ताकि उन्हे कोई झुठा ना कह दे…

नींद तो आने को थी मगर दिल पिछले किस्से ले बैठा…. अब खुद को बेवक्त सुलाने मे कुछ तो वक्त लगेगा..


कौन देता है उम्र भर का सहारा, लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं!

उस घडी मेरा इश्क हदें भूल जाता था, जब लडते लडते वो कहती थी लेकिन प्यार मैं ज्यादा करती हू तुमसे..

चल कोई बात नही जो तु मेरे साथ नही लेकिन यह बंदा तेरे लिये रोये ऐसी तेरी ओकात नही।

मै शायर नही बस दिल के अहसासो को शब्दो का रूप दे देता हूँ.. जहाँ दिख गये हसीन चेहरे थोडी बहुत आवारगी कर लेता हूँ…

जिस शहर में तुम्हे मकान कम और शमशान ज्यादा मिले… समझ लेना वहा किसी ने हम से आँख मिलाने की गलती की थी….!!

आज फिर तन्हा रात में इंतज़ार है उस शख्स का, जो कहा करता था तुमसे बात न करूँ तो नींद नहीं आती
हजारो दुआओ में मांग कर भी वो मेरी न हो सकी, एक खुशनसीब ने बिना मांगे उसे अपना बना लिया ।।

मैं इस काबिल तो नही कि कोई अपना समझे…. पर इतना यकीन है… कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद.!!
जिस मोहब्बत में दीवानगी ना हो, वोह मोहब्बत ही नही.

मैंने पूछा एक पल में जान कैसे निकलती है, उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया…

ना कर शक मेरी मोहब्बत पर ऐ पगली… अगर सबूत देने पर आया तो तू बदनाम हो जायेगी…

मुजे उस बात की फिक्र नहीं, जीस में मेरा जीक्र नहीं!

मेरी फितरत में नहीं है किसी से नाराज होना.. नाराज वो होते हैं जिन को अपने आप पे गुरूर होता है…..!!

मुझे आदत नहीं कहीं बहुत देर तक ठहरने की.. लेकिन जब से तुम मिले हो ये दिल कही और ठहरता नही…

उसने सिर्फ एक बार मुझसे कहा था… तुम प्यार सिर्फ मुझी से करना …. उसके बाद… मैने प्यार की नज़र से खुद को भी नहीं देखा..

मौत एक सच्चाई है उसमे कोई ऐब नहीं क्या लेके जाओगे यारों कफ़न में कोई जेब नही

हर एक शख्स ने अपने अपने तरीके से इस्तेमाल किया हमें.. और हम समझते रहे लोग हमें पसंद करते हैं !!

क्या हसीन इत्तेफाक़ था, तेरी गली में आने का… किसी काम से आये थे, किसी काम के ना रहे….!!

लौट आती है हर बार इबादत मेरी खाली, न जाने किस ऊँचाई पे मेरा ‘खुदा’ रहता है…!

जहर के असरदार होने से कुछ नही होता साहब खुदा भी राजी होना चाहिये मौत देने के लिय.

दिल से बेहतर तो रावण है साल में एक ही दिन जलता है.



कुछ लोग हमें अपना कहा करते है । सच कहूँ वो सिर्फ कहा करते है ।

कुछ लौग ये सोचकर भी मेरा हाल नहीं पुँछते… कि यै पागल दिवाना फिर कोई शैर न सुना देँ !!

हम घोडे के ‪‎ट्रिगर‬ पे नहीँ, बल्की खुद के ‪जीगर‬ पे जीते हे ।

होंठो से लगाकर तूने, दिल को एक नये नशे की तलब लगा दी। सकूं मिलता था भींड में हमे, तन्हाई में बुलाकर तूने, तन्हाई की आदद्त लगा दी।

लोग कहते हैं की इतनी दोस्ती मत करो के दोस्त दिल पर सवार हो जाए में कहता हूँ दोस्ती इतनी करो के दुश्मन को भी तुम से प्यार हो जाए.

लोग हमें समजते कम हे और समजाते ज्यादा हे… इसलिए मामले सुलजते कम हे और उलजते ज्यादा हे …!!

गर्लफ्रेंड तोह बच्चे पटाते हे , मे तोह कमिना हु , कमिनी ही पटाउन्गा..

गलत बन्दे से प्यार कर रही है वो.. मोहब्बत मेँ कही हुस्न ना खराब कर बैठे.

खुद के लिए कभी कुछ माँगा नहीं, औरों के लिए सर झुकाने पड़ते हैं।

पानी मेँ पत्थर मत झेको उस पानी कोभी कोई पीता है॥ यु मत रहो जिँदगी मेँ उदास तुमे देख के भी कोई जिता है॥

जिस क़दर उसकी क़दर की हमनें !! उस क़दर बेक़दर हो गए हम..

जहां तक रिश्तों का सवाल है…..लोगो का आधा वक़्त…. अन्जान लोगों को इम्प्रेस करने औरअपनों को इग्नोर करने में चला जाता हैं…!!

जैसा भी हूं अच्छा या बुरा अपने लिये हूं, मै खुद को नही देखता औरो की नजर से..

Jab bhi main mujh ko dekhu… Mujh main bhi main Tujh sa lagu :’)

Aasani Se Koi Mil Jaye To Wo Kismat Ki Baat Hai…. Suli Par Chadh Kar Bhi Jo Na Mile Use Mohabbat Kehte Hai.

Bade ajeeb se aajkal is Duniya ke mele hai, Dikhti toh bheed hai yahan, Par chalte sab akele hai.

Har saza qubool ki sar jhuka ke humne.. Kasoor bas itna tha ke bekasoor the hum..

Khuda se fariyad baki h,pyarzinda h kyuki yad baki h,maut aayegi to keh kr lauta denge, ki abhi kisi khas se akhiri mulakat baki h…

pyaar aap se kitna karte he bata nai sakte, bas jee nai sakte aap ke bina ye bhee sach he..

Zindagi Tab Tak Salamat Rakhna… Mere Khuda…!! Jab Tak K Meri Muhabbat Ko Mujh se Muhabbat Na Ho jaye.

तुम अच्छे हो तो बन के दिखाओ, हम बुरे है तो साबित करो.

काश !! OLX पे उदासी और अकेलापन भी बेचा जा सकता.

हम नवाब इस लिए है क्यों की हम लोगो पे नहीं लोगो के दिलो पे राज करते है


भूख रिश्तों को भी लगती है.. प्यार परोस कर तो देखिये..!

@ हिंदुस्तान में जब लड़कियों के पास कुछ करने के नहीं होता तो वो अक्सर अपना मूड खराब कर लेती है।
@ पगली तू हमारी बराबरी क्या करेगी हम तो माचीस भी Snepdeal से मंगवाते है…..

चुपचाप चल रहे थे.. हम अपनी मंजिल की तरफ.. फिर रस्ते में एक ठेका पड़ा.. और हम गुमराह हो गए।

ऐ जीन्दगी जा ढुंड॒ कोई खो गया है मुझ से. अगर वो ना मिला तो सुन तेरी भी जरुरत नही मुझे.

कुछ दूर हमारे साथ चलो, हम दिल की कहानी कह देंगे, समझे ना जिसे तुम आखो से, वो बात जुबानी कह देंगे ।

कितनी ही खूबसूरत क्यों न हो तुम.. पर मैं जानता हूँ.. असली निखार मेरी तारीफ से ही आता है..

होने वाले ख़ुद ही अपने हो जाते हैं.. किसी को कहकर, अपना बनाया नही जाता..!!

नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को, निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है..

ज़िन्दगी जोकर सी निकली … कोई अपना भी नहीं.. कोई पराया भी नहीं

मेरी आँखों में बहने वाला ये आवारा सा आसूँ पूछ रहा है.. पलकों से तेरी बेवफाई की वजह..

दम तोड़ जाती है हर शिकायत लबों पे आकर, जब मासूमियत से वो कहती है मैंने क्या किया है

अगर तुम्हें यकीं नहीं, तो कहने को कुछ नहीं मेरे पास, अगर तुम्हें यकीं है, तो मुझे कुछ कहने की जरूरत नही !

मेरी हर बात को उल्टा वो समझ लेते हैं, अब के पूछा तो कह दूंगा कि हाल अच्छा है..

खामोशियाँ में शोर को सुना है मैंने, ये ग़ज़ल गुंगुनायेगी रात के साये में ।

मिला क्या हमें सारी उम्र मोहब्बत करके, बस एक शायरी का हुनर, एक रातों का जागना..

ना पीछे मुड़ के देखो, ना आवाज़ दो मुझको, बड़ी मुश्किल से सीखा है मैंने अलविदा कहना..!

कभी टूटा नहीं मेरे दिल से तेरी यादों का रिश्ता.. गुफ़्तगू किसी से भी हो ख़याल तेरा ही रहता है..

ना छेड़ किस्सा वोह उल्फत का बड़ी लम्बी कहानी है मैं जिन्दगी से नहीं हारा किसी अपने की मेहरबानी है

हर किसी के हाथ मैं बिक जाने को हम तैयार नहीं.. यह मेरा दिल है तेरे शहर का अख़बार नहीं..


आज भी एक सवाल छिपा है.. दिल के किसी कोने मैं.. की क्या कमी रह गईथी तेरा होने में.

मेरी लिखी किताब, मेरे ही हाथो मे देकर वो कहने लगे इसे पढा करो, मोहब्बत करना सिख जाओगे..!!

इतनी चाहत तो लाखो रुपए पाने की भी नही होती.. जितनी बचपन की तस्वीर देख कर बचपन में जाने की होती हैं

@ साला किस्मत भी ऐसी है, की जिस दिन मेरा सिक्का चलेगा न, ठीक उसी दिन सरकार सिक्कों पे रोक लगा देगी..!

@ जितनी बार उसकी प्रोफाईल देखता हुं. यदि उतनी बार किताब खोल के देखता तो..कसम से यारो IAS का पेपर क्लीयर कर देता

दिल मेरा भी कम खूबसूरत तो न था.. मगर मरने वाले हर बार सूरत पे ही मरे..

मेरी आवाज़ ही परदा है मेरे चेहरे का, मैं हूँ ख़ामोश जहाँ मुझको वहाँ से सुनिए….!!!

उसने हर नशा सामने लाकर रख दिया और कहा.. सबसे बुरी लत कौनसी हैं, मैने कहा.. तेरे प्यार की.

क्या ऐसा नहीँ हो सकता की हम प्यार मांगे, और तुम गले लगा के कहो… और कुछ….??

वजह नफरतों कि तलाशी जाती है, मोहब्बत तो बेवजह ही हो जाती है..!!

फ्रेंड की प्रोफ़ाइल पिक्चर, लाइक करना आदत है हमारी. . . क्योंकी हर फ्रेंड के सूरत मे छिपी है खुशी हमारी.

आजकल देखभाल कर हौते हैं प्यार के सौदे… वो दौर और थे जब प्यार अन्धा होता था..!

छोङो ना यार , क्या रखा है सुनने और सुनाने मेँ किसी ने कसर नहीँ छोङी दिल दुखाने मेँ ..

यूँ ही जरा खामोश जो रहने लगे हैं हम। लोगों ने कैसे कैसे फसाने बना लिये।।

ज़िंदगी की दौड़ मे कच्चा रह गया… नही सीखा फ़रेब बच्चा रह गया…

खुदा सवाल करेगा अगर क़यामत में, तो हम भी कह देंगे लुट गए हम शराफत में…

बस ख़ामोशी जला देती है इस दिल को.. बाकि तो सब बाते अच्छी है तेरी तस्वीर में…

ज़रूरी तो नहीं के शायरी वो ही करे जो इश्क में हो, ज़िन्दगी भी कुछ ज़ख्म बेमिसाल दिया करती है…

कुछ अलग सा है अपनी मौहबत का हाल… तेरी चुपी और मेरा सवाल ….!!!!

सब को मुहब्बत के ग़म नहीं मिलते टूटने वाले दिल होते हैं ख़ास.

ज़मीं पर रह कर आसमां को छूने की फितरत है मेरी, पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे
कैसे चलूँ तेरे_एहसास के बिना दो_कदम भी मैं, लड़खड़ाती जिदंगी की आखरी_बैसाखी हो तुम..

मेरी कोशीश हमेशा ही नाकाम रही पहले तूझे पाने की और अब तुझे भुलाने की

देख पगली दिल मेँ प्यार होना चाहिए… धक-धक तो Royal Enfield भी करता है!

Vo IShQ hi kYa.. Jo Aankho Se na Tapke!


लाख‬ दिये ‪‎जलाले‬ अपनी ‪‎गली‬ मे..? मगर ‪रोशनी‬ तो ‪हमारे‬ आने से ही ‪‎होगी‬.

Sahara dudhne ki adat Humari nhi, Hum akele hi puri mehfil ke baraber hai.

इंसान सिर्फ आग से नहीं जलता, कुछ लोग तो हमारे अंदाज से जल जाते है।

गहरी साज़िशों का दौर है, उनके गिरेबान में झाँकते रहिये..

रेल मंत्री से बस एक ही गुज़ारिश है, मग्गे की चेन लंबी कर दें.

जब स्टेटस कॉपी होने लग जाए तो समझ लो तरक्की कर रहे हो .

जीवन की एक सच्चाई ये भी है कि हमेशा ट्रैफिक बराबर वाली लेन में तेज़ चलता है.

तेरे साथ भी तेरा था… तेरे बिन भी तेरा ही हूँ…

हमसफ़र खूबसूरत नहीं.. सच्चा होना चाहिए .

आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं, अक्सर वही आप की आँखें खोल जाता है.

अभी तो इश्क़ हुआ है… ‘मंज़िल’ तो मयखाने में मिलेगी…!!!

कमज़ोर पड़ गया है मुझसे तुम्हारा ताल्लुक …या कहीं और सिलसिले मजबूत हो गए हैं..

आइना जब भी उठाया करो.. “पहले देखो”…फिर “दिखाया करो”.!!

चल पड़े है फ़िकरे यार धुएं में उडा के

मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे… कोई मुझे इतना चाहे की हद कर दे…


प्यार का रिश्ता भी कितना अजीब होता है। मिल जाये तो बातें लंबी और बिछड़ जायें तो यादें लंबी।

सरकार को पाकिस्तान के आतंकवाद का जवाब देना अनिवार्य नहीं है।। लेकिन.. सेटअप बॉक्स लगाना अनिवार्य हैं..!!
अचानक Wi-Fi सिग्नल बंद हो गये… लगता है कि… पडोसी ने बिल नहीं भरा…!!

हमारा कत्ल करने की उनकी साजीश तो देखो…… गुजरे जब करीब से तो चेहरे से पर्दा हटा लिया….


एक शराब की बोतल दबोच रखी है…. तुजे भुलाने की तरकीब सोच रखी है…..
Baat aakhon ki suno dil mein utar jaati hai.. Zubba ka kya kabhi bi mukkar jaati hai

Ek hasin Jheel Nazar aati hai tumhari aankhen… Dil se kitni baate kar jaati hai tumhari aankhen…

Raaz Khol Dete Hain Nazuk Se Ishaare Aksar.. Kitni Khamosh Mohabbat Ki Zubaan Hoti Hai..

Aapki Aankho Mai Aaj Nami Dekhi. Tumhari Jindagi Ke Liye Kisi Ki Kami Dekhi

Naino kee mat suniyo re.. Naino kee mat suniyo.. Naina thag lenge.

इश्क करो तो आयुर्वेदिक वाला करो… फायदा ना हो तो नुक़सान भी ना हो…

हक़ से दो तो तेरी नफरत भी कुबूल है हमें , खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें!!!

खुद ही दे जाओगे तो बेहतर है..! वरना हम दिल चुरा भी लेते हैं..!

मेरे बारे में इतना मत सोचना, दिल में आता हूँ , समज में नही ।

तुम जिन्दगी में आ तो गये हो मगर ख्याल रखना, हम जान दे देते हैं मगर जाने नहीं देते !!

लोग रोज नसें काटते हैं प्यार साबित करने के लिये, लेकिन कोई सूई भी नही चुभने देता.. “रक्त दान” के लिए।

ज़िन्दगी के हाथ नहीं होते.. लेकिन कभी कभी वो ऐसा थप्पड़ मारती हैं जो पूरी उम्र याद रहता है

तुम्हारा दिल है या किसी मंत्री का इस्तीफा, कब से मांग रहा हूँ, दे ही नहीं रही हो..

शर्म की अमीरी से इज्जत की गरीबी अच्छी है ..

इस दुनियाँ में सिर्फ बिना स्वार्थ के माँ बाप ही प्यार कर सकते हैं ..

दिल मेरा उसने ये कहकर वापस कर दिया… दुसरा दिजीए… ये तो टुटा हुआ है….!!?!!

कुछ रिश्ते मुनाफा नहीं देते, पर अमीर जरूर बना देते हैं.

शाम को थक कर टूटे झोपड़े में सो जाता है वो मजदूर, जो शहर में ऊंची इमारतें बनाता है…
.
अमीर की बेटी पार्लर में जितना दे आती है, उतने में गरीब की बेटी अपने ससुराल चली जाती है….

कल एक इन्सान रोटी मांगकर ले गया और करोड़ों कि दुआयें दे गया, पता ही नहीँ चला की, गरीब वो था की मैं….

दीदार की तलब हो तो नजरें जमाये रखना .. क्यों कि ‘नकाब’ हो या ‘नसीब’ सरकता जरूर है…


गठरी बाँध बैठा है अनाड़ी, साथ जो ले जाना था वो कमाया ही नहीं

मैं उस किस्मत का सबसे पसंदीदा खिलौना हूँ, वो रोज़ जोड़ती है मुझे फिर से तोड़ने के लिए….

जिस घाव से खून नहीं निकलता, समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया है..

बचपन भी कमाल का था खेलते खेलते चाहें छत पर सोयें या ज़मीन पर, आँख बिस्तर पर ही खुलती थी…

हर नई चीज अच्छी होती है लेकिन दोस्त पुराने ही अच्छे होते है….

ए मुसीबत जरा सोच के आ मेरे करीब कही मेरी माँ की दुवा तेरे लिए मुसीबत ना बन जाये…
.
खोए हुए हम खुद हैं, और ढूंढते भगवान को हैं…

अहंकार दिखा के किसी रिश्ते को तोड़ने से अच्छा है की,माफ़ी मांगकर वो रिश्ता निभाया जाये….


जिन्दगी तेरी भी, अजब परिभाषा है..सँवर गई तो जन्नत, नहीं तो सिर्फ तमाशा है…

खुशीयाँ तकदीर में होनी चाहिये, तस्वीर मे तो हर कोई मुस्कुराता है…

हम तो पागल हैं शौक़-ए-शायरी के नाम पर ही दिल की बात कह जाते हैं और कई इन्सान गीता पर हाथ रख कर भी सच नहीं कह पाते है…

जिंदगी में वही लोग कामयाबी के शिखर को छुते है… जो बचपन में साइकिल की चैन उतरते ही तुरंत उल्टा पैडल मारकर चढ़ा लिया करते थे!!!

न जाने क्या मासूमियत है तेरे चेहरे पर.. तेरे सामने आने से ज़्यादा तुझे छुपकर देखना अच्छा लगता है..!

जो इंसान प्रेम मेँ निष्फल होता है, वो जिदगी मे सफल होता है..

हम अपना ‪#‎status‬ दिलो पर ‪#‎update‬ करते है ‪#‎facebook‬ पर नहीं|

ज़िंदगी भी विडियो गेम सी हो गयी है, साला एक लैवल क्रॉस करो तो अगला लैवल और मुश्किल आ जाता हैं..

मेरे दोस्त केहते हैं तुम्हारे सब #StatuS एक नंबर रेहते हैं मैने कहा २ नंबर के काम मैने कभी किया ही नहीं|

वो कहते है कि हमे मोहब्बत है आपसे हमने भी कह दिया जा झूठी प्यार का पंचनामा -2 देखी है हमने


जिंदगी मै सिर्फ़ दो ही नशा करना, जीने के लिए यार और मरने के लीये प्यार..

कुछ लोग मुझे अपना कहा करते थे.. सच कहूँ तो वो सिर्फ कहा करते थे..

कल ही तो तौबा की मैंने शराब से.. कम्बख्त मौसम आज फिर बेईमान हो गया।।

भीड़ में खड़ा होना मकसद नही है मेरा, बल्कि भीड़ जिसके लिए खड़ी है वो बनना है मुझे !!

बारिश की बूँदों में झलकती है तस्वीर उनकी‬‎और हम उनसे मिलनें की चाहत में भीग जाते हैं‬..!!!

कौन कहता है की सिर्फ ‪चोट‬ ही ‪दर्द‬ देता है असली दर्द मुझे तब होता है जब तू ‪ online‬ आके भी ‪reply‬ नहीं देती
अंदाज़ कुछ अलग ही हे मेरे सोचने का, सब को मंज़िल का शौख हे, मुझे रास्ते का ..।

पसंद है मुझे.. उन लोगों से हारना… जो लोग मेरे हारने की वजह से पहली बार जीते हों..

‘हुनर’ सड़कों पर तमाशा करता है और ‘किस्मत’ महलों में राज करती है!!

आज 20, फिर 21.. और फिर फिर 22 को रावण मरे या ना मरे.. 🐟 🐓 🐐 ये तो जरूर मरेंगे..

मैंने महसूस किया है उस जलते हुए रावण का दुःख जो सामने खड़ी भीड़ से बारबार पूछ रहा था.. तुम में से कोई राम है क्या?

नए लोग से आज कुछ तो सीखा हे, पहले अपने जैसा बनाते हे फिर अकेला छोड़ देते है…

खेलने दो उन्हे जब तक जी न भर जाए उनका, मोहब्बत चार दिन कि थी तो शौक कितने दिन का होगा..

मोहब्बत ख़ूबसूरत होगी किसी और दुनियाँ में, इधर तो हम पर जो गुज़री है हम ही जानते हैं..

एहसान वो किसी का लेते, नहीं मेरा भी चुका दिया, जितना भी खाया था नमक, मेरे ज़ख़्मों पर लगा दिया..

कोई उसे खुश करने के बहाने ढूंड रहा था, मैने कहा- उसे मेरे मरने की खबर सुना दे..

किस बात पर मिजाज बदला बदला सा है.. शिकायत है हमसे.. या ये असर किसी और का है..

रहता तो नशा तेरी यादों का ही है, कोई पूछे तो कह देता हुँ पी रखी है..

काश कि वो लौट आयें मुझसे यह कहने, कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले..!!!

हद से बढ़ जाये तालुक तो गम मिलते हैं.. हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हँ..

कितना कुछ जानता होगा वो शख्स मेरे बारे में मेरे मुस्कुराने पर भी जिसने पूछ लिया की तुम उदास क्यों हो.

कभी फुर्सत मिले तो सोचना जरूर, एक लापरवाह लड़का क्यों तेरी परवाह करता था !

जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ.. मगर, किसी के भरोसे का फ़ायदा नहीं..

जिस्म से होने वाली मुहब्बत का इज़हार आसान होता है. रुह से हुई मुहब्बत को समझाने में ज़िन्दगी गुज़र जाती है..
बात करने से ही बात बनती है..बात ना करने से, बातें बन जाती है ..!


Aankho me aansu mohhabat ki nishani hai… samjho to moti na samjho to paani hai…!!

तेरा नाम था आज किसी अजनबी की जुबान पे बात तो जरा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया..

आयेंगे तेरी गलि में चाहे देर क्यू न हो जाये करेंगे मोहब्बत तुझ से हि चाहेजेल क्यू नहो जाये..

Zindagi chain sey guzar jaye… Agar wo zehan sey utar jaye

ज्यादा बोझ लेकर चलने वाले अक्सर डूब जाते हैं, फिर चाहे वह अभिमान का हो या सामान का हो।

बेशक तू बदल ले अपनी मौहब्बत लेकिन ये याद रखना,, तेरे हर झूठ को सच मेरे सिवा कोई नही समझ सकता!!

ज़िंदगी रही तो तुम्हारा साथ निभाऊंगा दोस्तो, अगर कभी भूल गया तो समझ लेनाकि… शादी हो गयी

ये दिल भी कितना पागल है हमेशा उसी की फिकर मे डुबा रहता है जो इसका होता ही नही है !

Life में एक partner होना जरुरी है. वर्ना दिल की बात status पर लिखनी पड़ती है.!

खामोश हूँ तो सिर्फ़ तुम्हारी खुशी के लिए ये न सोचना की मेरा दिल दुःखता नहीं !



‎इज्जत‬ किया करो ‪‎हमारी‬, वरना ‪#‎Girlfriend‬ पटा लेंगे तुम्हारी…

अजीब सी बस्ती में ठिकाना है मेरा जहाँ लोग मिलते कम झांकते ज़्यादा है

बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना, कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में !

किसी को क्या बताये की कितने मजबूर है हम.. चाहा था सिर्फ एक तुमको और अब तुम से ही दूर है हम।

वहां तक तो साथ चलो जहाँ तक साथ मुमकिन है, जहाँ हालात बदलेंगे वहां तुम भी बदल जाना.

हम ना बदलेंगे वक्त की रफ़्तार के साथ, हम जब भी मिलेंगे अंदाज पुराना होगा !! नजर चाहती है दीदार करना दिल चाहता है प्यार करना

क्या बताऊँ इस दिल का आलम नसीब में लिखा है इंतज़ार करना

अधूरी मोहब्बत मिली तो नींदें भी रूठ गयी…! गुमनाम ज़िन्दगी थी तो कितने सकून से सोया करते थे…!!

अरे कितना झुठ बोलते हो तुम खुश हो और कह रहे हो मोहब्बत भी की है

सुनो… तुम ही रख लो अपना बना कर.. औरों ने तो छोड़ दिया तुम्हारा समझकर..



कागज़ों पे लिख कर ज़ाया कर दूं मै वो शख़्स नही वो शायर हुँ जिसे दिलों पे लिखने का हुनर आता है

झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ सुबह और शाम मैं सच बोलने की अदा ने हमसे कई अजीज़ यार छीन लिये|

निकली थी बिना नकाब आज वो घर से मौसम का दिल मचला लोगोँ ने भूकम्प कह दिया

अगर तुम समझ पाते मेरी चाहत की इन्तहा तो हम तुमसे नही तुम हमसे मोहब्बत करते

अमीरों के लिए बेशक तमाशा है ये जलजला, गरीब के सर पे तो आसमान टुटा होगा.

नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .

कुछ इसलिये भी ख्वाइशो को मार देता हूँ माँ कहती है घर की जिम्मेदारी है तुझ पर

नफरत ना करना पगली हमे बुरा लगेगा. . . . बस प्यार से कह देना अब तेरी जरुरत नही है. .

जो मेरे बुरे वक्त में मेरे साथ है मे उन्हें वादा करती हूँ मेरा अच्छा वक्त सिर्फ उनके लिए होगा

ये जो छोटे होते है ना दुकानों पर होटलों पर और वर्कशॉप पर दरअसल ये बच्चे अपने घर के बड़े होते है


कुछ लोग आए थे मेरा दुख बाँटने मैं जब खुश हुआ तो खफा होकर चल दिये

मोत से तो दुनिया मरती हैं आशीक तो बस प्यार से ही मर जाता हैं

दिल टूटने पर भी जो शख्स आपसे शिकायत तक न कर सके… उस शख्स से ज्यादा मोहब्बत आपको कोई और नही कर सकता

बिक रहे हैं ताज महल सड़क-चौराहों पर आज भी.. मोहब्बत साबित करने के लिए बादशाह होना जरुरी नहीं..!!

डूबे हुओं को हमने बिठाया था अपनी कश्ती में यारो, और फिर कश्ती का बोझ कहकर, हमें ही उतारा गया।

Tere na hone se kuchh bhi nahi badla,. Bus kal jaha Dil hota tha, Aaj waha dard hota hai..!!

⧭मिल सके आसानी से , उसकी ख्वाहिश किसे है? ज़िद तो उसकी है … जो मुकद्दर में लिखा ही नहीं…

⧭मेरे मिज़ाज को समझने के लिए, बस इतना ही काफी है, मैं उसका हरगिज़ नहीं होता….. जो हर एक का हो
 जाये।
⧭लहरों का सुकून तो सभी को पसंद है, लेकिन तुफानो में कश्ती निकालने का मजा ही कुछ और है

⧭गिन लेती है दिन बगैर मेरे गुजारें हैं कितने भला कैसे कह दूं कि माँ अनपढ़ है मेरी..!!

⧭धोखा देती है अक्सर मासूम चेहरे की चमक।। क्योंकि हर पत्थर हीरा नहीं होता।।

⧭लोग ढूँढेंगे हमें भी, हाँ मगर सदियों के बाद।

⧭अजीब खेल है इस मोहब्बत का, किसी को हम न मिले और न कोई हमे मिला।

⧭वो अपनी मर्जी से बात करते हैँ और हम कितने पागल हैँ जो उनकी मर्जी का इंतजार करते हैं..!!!


⧭सुना है आज उनकी आँखों आँशु आ गए। वो बच्चों को लिखना सिखा रही थी.. कि मोहब्बत ऐसे लिखते है।

⧭अजीब रंगो में गुजरी है मेरी जिंदगी। दिलों पर राज़ किया पर मोहब्बत को तरस गए।

No comments :