Sunday, 26 March 2017

तेरे हाथ से मेरे हाथ तक

⧪तेरे हाथ से मेरे हाथ तक,
वो जो हाथ भर का था फ़ासला;
उसे नापते,
उसे काटते मेरी सारी उमर गुज़र गयी⧭⧭⧭

No comments :