Sunday, 26 March 2017

फिर वही दिल की गुज़ारिश

फिर वही दिल की गुज़ारिश,
फिर वही उनका ग़ुरूर;
फिर वही उनकी शरारत,
फिर वही मेरा कुसूर⧬⧬⧬⧬

No comments :