Sunday, 26 March 2017

तेरा चेहरा तो अभी तक है नकाबों

⧬यार तो आइना हुआ करते हैं यारों के लिए;
तेरा चेहरा तो अभी तक है नकाबों वाला;
मुझसे होगी नहीं दुनिया ये तिजारत दिल की;
मैं करूँ क्या कि मेरा जहान है ख्वाबों वाला⧬⧬

No comments :