Tuesday, 28 February 2017

ghalib shayari hindi font 2017

⇲ये संगदिलों की दुनिया है,
⇲संभलकर चलना गालिब;
⇲यहाँ पलकों पर बिठाते हैं,
⇲नजरों से गिराने के लिए...

No comments :