Tuesday, 20 December 2016

Safar Wahin Tak Shayari 2017


  1. सफर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
  2. नजर वहीं तक है जहाँ तक तुम हो,
  3. हजारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
  4. खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो..

No comments :