Sunday, 18 December 2016

नाम चाहा न कभी भूल के शोहरत माँगी


  1. नाम चाहा न कभी भूल के शोहरत माँगी;
  2. हमने हर हाल में ख़ुश रहने की आदत माँगी;
  3. हो न हिम्मत तो है बेकार यह दौलत ताक़त;
  4. हमने भगवान से माँगी है तो हिम्मत माँगी

No comments :