Sunday, 18 December 2016

मेरी खामोश निगाहें हर बात कह गयी


  1. यूँ मिले कि मुलाक़ात हो ना सकी;
  2. होंठ काँपे मगर कोई बात ना हो सकी;
  3. मेरी खामोश निगाहें हर बात कह गयी;
  4. और उनको शिकायत है कि कोई बात ना हो सकी

No comments :