Sunday, 18 December 2016

दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है


  1. दोस्ती इंसान की ज़रुरत है;
  2. दिलों पर दोस्ती की हुकुमत है;
  3. आपके प्यार की वजह से जिंदा हूँ;
  4. वरना खुदा को भी हमारी ज़रुरत है

No comments :