Wednesday, 28 September 2016

zindagi shayari


#जेब में क्यों रखते हो खुशी के लम्हें जनाब;
#बाँट दो इन्हें ना गिरने का डर, ना चोरी का

No comments :