Sunday, 19 April 2015

Hindi shayari

इस अजनबी दुनिया में अकेली ख्वाब हूँ मैं,

सवालो से खफा छोटी सी जवाब हूँ मैं,

आँख से देखोगे तो खुश पाओगे,

दिल से पूछोगे तो दर्द की सैलाब हूँ मैं....................

No comments :